0
Share




@dawriter

बात भले कल की हो वास्ता आज से ही है…

0 6       
dhirajjha123 by  
Dhiraj Jha

इस कत्लेआम का कौन जवाब देगा
अधकटी लाशों का कौन हिसाब देगा
अभी बंधे हैं तो ये हाल है
सोचो जिस दिन उतर आये भेड़िये सड़कों पर
फिर तो इज्ज़त का साथ ना घूँघट देगा ना हिज़ाब देगा
तुम मेरी बात को याद रखना
हमारा आज हमारे कल को
खून से सने इतिहास की किताब देगा
अब भी वक्त है संभल जाओ
वर्ना तुम्हारा ये ख़ामोश रहना
आने वाली नस्ल को पूरी तरह कर बर्बाद देगा

धीरज झा



Vote Add to library

COMMENT