217
Share




@dawriter

कुछ पूछ लूं मां से

0 26       
gourav11698 by  
gourav11698

हे जगत जननी माँ. .प्रणाम है तुम्हें! और प्रणाम है तुम्हारी उस असीमित ऊर्जा को 🙏

 मां हर पल हजारों सवाल आते हैं मन में कि पूछ लूं तुमसे कहां से लाती हो इतना जज्बा, इतनी हिम्मत , इतनी ताकत. ...जो हर दिन जंग जीत जाती हो!

हर सुबह सूरज को शिकायत रहती हैं तुम उससे पहले जो उठ जाती हो....और घड़ी हर रोज दौड़कर भी तुमसे पीछे रह जाती हैं 🙏

न दादा जी की चाय कभी ठंडी होती हैं, न कभी पिता जी की पूजा में देरी....न मैं कभी आफिस को लेट होता हूँ 🙏

न किसी के कपड़े की प्रेस तुम बिगड़ने देती है न कोई गंदा रहने देती हो!

स्कूल से कालेज पहुंच गए, और कालेज से आफिस, पर मेरे बैग में तुम्हारा रखा हुआ टिफिन हमेशा मुस्कराता है! 

घर का प्रेशर कुकर सीटी बजा कर शिकायत करता है तुम्हारी वो कढाई जिसके कान तुम रोज उमेठा करती हो.. .तुम्हारी लगन से जलकर काले हो गए हैं 😉

और वो घर की मिक्सी. ..वस आपके हाथ का आदेश मानती है, और हमें डांट लगती है हम काम नहीं करना चहाते 😕

घर का आंगन तुम्हारे हर रोज चले हजारों कदमों से भी पीला नहीं पड़ा, और न शिकायत की तुमने उन खरोंचो और बिबाईयो की जो पैरों में पड़े तुम्हारे 🙏

इन सबके बाद भी तुम्हें सब पता है. . Star plus क् सीरियल के किरदार, पड़ोसियों के हाल, और रिश्तेदारों के व्यवहार 🙏

और तुम रखती हो हुनर ऊन के कच्चे धागों से कुछ पक्के इरादे बीनने का हुनर.. मुझे ठंड से बचाते वो तुम्हारे हाथ के बने स्वेटर 😍

कई बार लगता है शायद तुम्हारे पास है चौबीस घंटे से ज्यादा वक्त. ..पुछ लूं मै कहां से लाती हो हर पर मुस्कुराहट का हुनर.. 

कई बार मैं खुद से पुछता हूं. ..कैसे अदा करोगे मां का ये कर्ज.. .कई बार मैं हार के गोद में सर रखता हूँ तो मिलती है मुझे दुनिया से लड़ने की ललक.. कितना करती हो तुम मां. .मेरी लेखनी से कही जायदा. ..बस हिम्मत नहीं होती पर लगता है. ..कुछ पूछ लूं मां से. .😊🙏😍



Vote Add to library

COMMENT