0
Share




@dawriter

फुटपाथ पर जिंदगी

0 0       

ना ज़मीं है कोई अपनी

ना सर पर है कोई छत,

बस जहाँ पलक झपकी

वही है नींद की रहमत

 

जो मिला तो खा लिया

पानी से भर लिया पेट,

जो मौसम की मार पड़ी

खुद को ही लिया समेट

 

ना डर किसी से रहा

ना इच्छाएँ कभी बढ़ी,

फुटपाथ पर ही जिंदा

साँसे जब तक ना थमी

 

जो बुलाया खुदा ने

जिंदगी पार हो जाएगी,

अमीरी के पहिए तले

साँसे भी निकल जाएगी

 

#रश्मि



Vote Add to library

COMMENT

Recommendations