SHAYARI

FILTERS


LANGUAGE

कांच हु अभी....

nis1985   63 views   11 months ago

कांच हूँ अभी,खुद को तराशना है बाकी, जब आइना बन जाऊं,तब दुनिया देखेगी......

चाँद थी वो

neerajself   44 views   10 months ago

I tried to answer of 'who was she?'this way 'chand thi wo'

दिल का हाल

rashmi   13 views   1 year ago

कल्ब में बसी चाहत को कहाँ कोई जान पाता है..बस इसी दर्द को शायरी में लिखने की कोशिश

मन और बुद्धि

utkrishtshukla   34 views   1 year ago

मन और बुद्धि में अंतर चिंतन​ द्वारा सम्भव हो​ सकता है।

अनुभव

utkrishtshukla   96 views   1 year ago

अनुभव इंसान की जिंदगी को आसान बनाने में ख़ास भूमिका निभाते है।

इच्छा

Nidhi Bansal   85 views   8 months ago

मनुष्य का 'कभी ना खत्म होने वाली 'इच्छाओ का सिलसिला,उसके जीवन को नरक बना देता है।

"लिख दूँ"!!!

ayushjain   17 views   11 months ago

"सोचता हूँ लिख दूँ खुद को दिल खोल कर फिर सोचता हूँ रहने दूँ......

जो नहीं है, वह खूबसूरत है...

sehyun221   49 views   10 months ago

An inspirational article on daily life issues. A strong message to those people who are worried about their future and all that.

पैमाने के दायरों में रहना... (नज़्म) #ज़हन

Mohit Trendster   71 views   1 year ago

पैमाने के दायरों में रहना, छलक जाओ तो फिर ना कहना… साँसों की धुंध का लालच सबको, पाप है इस दौर में हक़ के लिए लड़ना… अपनी शर्तों पर कहीं लहलहा ज़रूर लोगे, फ़िर किसी गोदाम में सड़ना…

अधूरी सी मन्नत

aksha   32 views   10 months ago

Sometimes i want to live my childhood again so that i can find my brother... 😞

शायरी ऐ शाम

ramkanwar   38 views   10 months ago

राह पर चला मै भी कुछ इस कदर, न मंजिल मिली न साहिल मिला | यू होकर बेजुबां मै चल रहा था, क्या बोलू बस सिने में दर्द लिए चल रहा था|

Shayari

sonikedia12   17 views   10 months ago

आ गए जो तेरे शहर क्या होगा। उस वक्त का पहर क्या होगा।

इतवार

neerajself   33 views   6 months ago

ये वक़्त भी बेवक्त मुझे कुछ यूँ सताता है...

रहनुमा अक्स (नज़्म)

Mohit Trendster   42 views   5 months ago

जब किसी के अक्स में दुनिया बसने लगे...कीमत और दायरों के परे कुछ...उस रूहानी एहसास का हाल!

मेहनत कश शहज़ादी।

sehyun221   29 views   10 months ago

एक मज़दूर लड़की का अपने आशिक़ के साथ बिताए हुए कुछ लम्हों का हसीन मंज़र।