0
Share




@dawriter

सज़ा

0 11       
neerajself by  
neerajself

ये बात सही है कि कभी दिल में रहे हो तुम,
कोई इस क़दर ख़ुद पे ज़ुल्म ऐसे करता नहीं है।
वो जगह कुछ इस क़दर वीरान हो गयी है दिल में,
लोग आते-जाते तो हैं मगर कोई वहाँ ठहरता नहीं है॥



Vote Add to library

COMMENT