7
Share




@dawriter

मुस्कुराती सी जिंदगी

0 35       

बड़ी छोटी है ये जिंदगी

हर लम्हा पलक झपकते ही गुजर जाता है

है गम़ और खुशी का ये संगम

हर कोई इसमें डुबकी लगाता है

जाने क्या राज़ है इसका कि

हर कोई मुस्कुराता है

कुछ मासूम मुस्काने हैं

कुछ दर्द छिपातीं हैं

कुछ डराती हैं

तो कुछ हँसातीं हैं

कोई मुस्कुराहट हसरतों की उड़ान है

तो कोई रोते हुए की पहचान है

हर मुस्कान एक कहानी है

हर मुस्कुराहट एक राज़ है

कुछ लोग हँस के राज़ कुरेदतें हैं

कुछ हँसी से दफनाते हैं

कुछ दिल में कैद कर लेते हैं

और अपनी वफा निबहाते हैं

एक ख्वाहिश है मेरी खुदा तुझसे

ग़र तू रज़ा हो जाए

मेरे चेहरे की खूबसूरती मेरी मुस्कान से बढ़ जाए

रहे मुस्कराते चाहे हो झूठ या सच

बस मुस्कराते हुए ही यूँ जिंदगी गुजर जाए



Vote Add to library

COMMENT