0
Share




@dawriter

ख्याल क्यों है.....!

0 7       

 

उसने हाले-ए-दिल पुछा कुछ तल़्ख स्वभाव मे,
हमने भी दे दिया जबाब कुछ उसी अन्दाज मे।

वो बोली तुम बड़े मगरुर हो,
मनेै भी बोला तुममें भी तो भरा गुरुर है।

पूछी तुम्हें मेरी जिन्दगी मे आना क्यों हो,
मै बोला तुमको मेरे जिन्दगी से जान क्यों है।

बोली मेरे हर सवाल का जवाब सवाल क्यों है,
मै बोला तेरे मन मे भरे ऐसे सवाल क्यों है।

पूछ बैठी तुम्हें मेरी बेवफाई से भी तुम्हें प्यार क्यों है,
मै बोला गर करता हो, बेवफाई तो मेरे लिये ये ख्याल क्यों है॥

:- चन्द्र प्रताप सिंह

 



Vote Add to library

COMMENT