SHAYARI

FILTERS


LANGUAGE

मेरी आज़ादी का रुआब

Mohit Trendster   14 views   4 weeks ago

जंग तुझसे नहीं तेरे खयालो से है... बात मेरे ज़हन मे जलते सवालो से है... गलत होकर भी सही ठहराये गये जवाबो से है... जिनके पीछे रहकर तू राज करता उन हिजाबो से है...

चल आज कुछ किस्से लिखते है ।

chandrasingh   40 views   1 year ago

तेरे हर एक लम्हे के खातिर, अपनी जिन्दगानी लिखते हैं ॥

मेला

utkrishtshukla   84 views   1 year ago

मेले में मां बाप से बिछड़ने का दर्द सिर्फ वही जानता है जो कभी बिछड़ा हो....

“ अगर तुम चाहो तो ”

ankitg   88 views   10 months ago

प्रस्तुत कविता में मैंने अपनी प्रेयसी को एक उर्जात्मक रूप में दिखाने कि कोशिश की है, एक कवि अपनी कविता (प्रेयसी) के सूक्ष्म वियोग में जब कुछ रचनायें लिखता है, उस दर्द को मह्सूस कर लिखने का प्रयास किया है...

नहीं मुझे यह शहर चाहियें

Nidhi Bansal   152 views   9 months ago

मै गाँव में पली बढी हूँ और पिछले 11सालों से शहर में अपना घर बना कर रह रही हूँ। किन्तु गाँव और शहर के परिवेश मे बहुत फर्क महसूस करती हूँ। बस इन्ही भावनाओं को वयक्त करने की कोशिश है।जरूरी नहीं की सभी मेरे विचारों से सहमत हों।

सवाल

neerajself   34 views   8 months ago

वक़्त का ये तजुर्बा भी कमाल ही है ना।

जिंदगी का फलसफा

nis1985   437 views   1 year ago

धुआँ धुआँ सा है जहाँ, रौशनी बहुत कम है.....

लोगों को बदलते देखा है मैंने

aksha   290 views   1 year ago

It is not a composition but my own experience

बेईमान मौसम

chandrasingh   92 views   1 year ago

मौसमों ने मिल के साजिशें रच रहे थे, उस शरमाती हुई को, बेशरम कर रहा थे !!

પહોંચી ગયો

spujara19   15 views   9 months ago

એક ગુજરાતી ગઝલ આપણી સમક્ષ રજુ કરું છું

मैं तुम और ये आवारगी ।

chandrasingh   53 views   1 year ago

जिन्दगी में अगर कभी बिछड़ना हो तो, एक काम करना बस जरा सा तुम मेरा मान करना। मुझसे कभी किश्तो मे मत बिछड़ना जब, मैं मुकम्मल नींद मे चला जाऊँ तब, तुम मुकम्मल तौर पर बिछड़ जाना, बस ज़िन्दगी में इतना तुम अहसान कर जाना।

पेड़

utkrishtshukla   51 views   1 year ago

मनुष्य निरंतर उन चीजों का ही विनाश करता जा रहा है, जिनसे उसके जीवन का वजूद है।

Child trafficking

mitikaarora   17 views   1 year ago

When the so called fish markets started selling the tiny tots, the virtual reality of the age of vice was clearly seen.

सागर के किनारे

kavita   196 views   1 year ago

सागर के किनारों सी तटस्थ, और एकल जिंदगी की एक अधूरी प्रेम कहानी....

ये मेरा दर्द घटा दे कोई...

sehyun221   18 views   1 year ago

एक ग़ज़ल जो काफी वक़्त पहले कही गयी थू, पेश कर रहा हूँ... उम्मीद है सब को पसंद आएगी.