नज़र

उसकी नज़र से नज़र कौन मिलाए, जिससे नज़र खुद ख़ुदा न मिलाए।

पोटली......

सपनों की...आशाओं की....एक पोटली जो दिल के जज्बातों की....

वो बात

इन बातों में वो बात नहीं...........

मौसम

सुबह हुई पर धूप नहीं है.......

सज़ा

ये बात सही है कि कभी दिल में रहे हो तुम...

"ख़्वाहिश"!!!

एक ख़्वाहिश सिर्फ़ एक ख़्वाहिश ही थी वो भी पूरी ना हुई

चाँद थी वो

I tried to answer of 'who was she?'this way 'chand thi wo'

सच

फिसलते पाँव अक्सर झूठ की जमीन पर मिले हैं,

जो नहीं है, वह खूबसूरत है...

An inspirational article on daily life issues. A strong message to those people who are worried about their future and all that.

जो मेरे बाल बिखरने नहीं देती थी कभी

This is my ghazal which very close to my heart.

मेहनत कश शहज़ादी।

एक मज़दूर लड़की का अपने आशिक़ के साथ बिताए हुए कुछ लम्हों का हसीन मंज़र।

Shayari

आ गए जो तेरे शहर क्या होगा। उस वक्त का पहर क्या होगा।

चल आज कुछ किस्से लिखते है ।

तेरे हर एक लम्हे के खातिर, अपनी जिन्दगानी लिखते हैं ॥

ओ गणपति महाराज

ओ गणपति महाराज विनती सुन लो आज अकिंचन सी मैं खड़ी आज तेरे द्वार

अभी बाकी है

मत हो उदास ऐ परिन्दे कि अभी तेरी उड़ान बाकी हैं।

सागर के किनारे

सागर के किनारों सी तटस्थ, और एकल जिंदगी की एक अधूरी प्रेम कहानी....

मैं तुम और ये आवारगी ।

जिन्दगी में अगर कभी बिछड़ना हो तो, एक काम करना बस जरा सा तुम मेरा मान करना। मुझसे कभी किश्तो मे मत बिछड़ना जब, मैं मुकम्मल नींद मे चला जाऊँ तब, तुम मुकम्मल तौर पर बिछड़ जाना, बस ज़िन्दगी में इतना तुम अहसान कर जाना।

शायरी ऐ शाम

राह पर चला मै भी कुछ इस कदर, न मंजिल मिली न साहिल मिला | यू होकर बेजुबां मै चल रहा था, क्या बोलू बस सिने में दर्द लिए चल रहा था|

बस यूं ही

अगर बन जाता घरौंदे ख्वाबों से, तो इतनी शिद्दत से चिड़िया तिनका-तिनका न सजोती।

अधूरी सी मन्नत

Sometimes i want to live my childhood again so that i can find my brother... 😞

मै नींदे लिखूंगी

मै नींदे लिखूंगी, तू ख्वाब पढ़ना... बस अनकहा सा, वो एहसास पढ़ना.....

"लिख दूँ"!!!

"सोचता हूँ लिख दूँ खुद को दिल खोल कर फिर सोचता हूँ रहने दूँ......

जिंदगी की जद्दोजहद

जिंदगी की उथल-पुथल, एक जद्दोजहद सी है.....

Child trafficking

When the so called fish markets started selling the tiny tots, the virtual reality of the age of vice was clearly seen.