SEXUAL ABUSE

FILTERS


LANGUAGE

सितंबर की वो मनहूस सुबह

ritumishra20   901 views   1 year ago

जहाँ उज्ज्वल भविष्य के कामना के लिए जिन्दगी का सफर अभी ठीक से शुरू भी नहीं हुआ और उस मासूम जिंदगी का अन्त हो जाता है, कैसे हुआ उस मासूम जिन्दगी का अन्त?? किसने किया उस मासूम की जिन्दगी का अन्त?? पढ़िए कहानी "सितंबर की वो मनहूस सुबह" मे।

रेपिस्ट कौन?

suryaa   118 views   1 year ago

बेटा उठ जाओ,सुबह के 9 बज रहे हैं,कब तक सोओगी-----मास्टर केशव प्रसाद ने पल्लवी को आवाज लगाते हुए कहा

घर के भेड़िये

joshimukesh1010   115 views   1 year ago

कुछ भेड़िये हमारे अपने घरों में, ऑफिस में, पड़ोस में यहीं कहीं हमारी नज़रों के आसपास होते हैं। वो बोटी नोंचते हैं। उनको पहचानना ज़रूरी है।

मै नहीं भेजूगी अपनी बेटी को स्कूल

Maneesha Gautam   1.05K views   9 months ago

तुम क्यो रखना चाहती हो घर पे उसे कृति? अपने आँसुओं को अपनी ताकत बनाओ अपनी कमजोरी नही कब तक चून्नू को अपने आँखो के सामने रखोगीं

कमली

kavita   557 views   1 year ago

एक हँसमुख जिंदादिल स्त्री के जीवन का वर्णन, दुख और संघर्ष से जूझती स्त्री की कहानी..!

फेक फेसबुक आई डी ..एक अनोखी प्रेम कथा

kavita   922 views   11 months ago

सोशल मीडिया के दुरुपयोग से लेकर ,किन्ही विशेष परिस्थितियों में इसके फायदे की एक छोटी सी भूमिका प्रधान कहानी

आखिर ये दरिन्दगी कब तक

nis1985   332 views   8 months ago

मैं पूछती हूं क्या दिखता है आखिर ८ माह की बच्ची में, कुछ लोगो की सोच के हिसाब से लड़कियां छोटे-छोटे कपड़े पहनके उकसाती हैं न

कोरा कागज़

rajmati777   1.63K views   11 months ago

एक ऐसे आदमी की कहानी जो अपने स्वार्थ के लिए कुछ भी करने को तैयार हों जाता है। अपने परिवार, अपनी पत्नी तक को पराया दिखा औरतों से सहानुभूति लेता रहता है। और औरतें भी उसकी बातों में आ उसके लिए सब कुछ करने को तैयार हों जाती है। पर सही रुप में देखा जाय तो वो आदमी मानसिक रोगी की श्रेणी में आता है।

छिपकली

Sharma Divya   1.67K views   8 months ago

यौन शोषण सिर्फ आदमी ही नहीं करते बल्कि इसका शिकार भी होते है। छिपकली एक बच्चे की कहानी है जो यौन शोषण शिकार हुआ।

क्या यही प्यार है

rajmati777   425 views   11 months ago

वो हमसे पर्याय का इजहार करते रहे पर हमें उन पर विश्वास नहीं था। पर फिर भी दिल को समझाया, कर लें विश्वास। दुनिया में सभी एक जैसे नहीं होते। पर हमें क्या पता जिंदगी जिनके नाम करने जा रहे हैं वो तो.............. विश्वास के लायक ही नही है।

भद्र पुरुष

Kavita Nagar   837 views   8 months ago

कैसे माधुरी दुविधा में फंसी हुई थी,मन में उथलपुथल और बहुत गुस्सा था,समझ नहीं पा रही थी,क्या करे।

बरसाती कीड़ा का डंक

poojaagnihotry   1.33K views   8 months ago

निहारिका का रुझान मॉडलिंग की ओर था वहीं अविका निम्न मध्यमवर्गीय परिवार से थी और नौकरी करके पिताजी की मदद करना चाहती थी।

फिल्म

sunita   870 views   4 months ago

'अरे घनचक्कर चल कही हाथ साफ करते है बिलकुल फिल्म की माफिक ऐश करेगा अपुन दोनो बोल क्या करेगा ...क्यो नही दोस्त के लिए तो जान भी हाजिर तो फिर चल कल दोपहर नयी बिल्डिंग के पास में आना ........

एक सच्ची घटना- बिना शीर्षक की एक आपबीती

Anonymous
  991 views   2 months ago

एक ऐसा घाव जो तन पर ही नहीं मन पर भी होता है जो ताउम्र नहीं भरता..

Her shriveled Cry

swayema   188 views   1 year ago

It's all about a girl married in an early age in exchange of some bucks and was crushed every night.