Rising amidst pain

It is a poignant account of a woman's life who struggled against the tough situations of her life to emerge as a warrior. it was, for sure, a hardline task for her but not impossible. Her grit to succeed proves it all.

कमली

एक हँसमुख जिंदादिल स्त्री के जीवन का वर्णन, दुख और संघर्ष से जूझती स्त्री की कहानी..!

सितंबर की वो मनहूस सुबह

जहाँ उज्ज्वल भविष्य के कामना के लिए जिन्दगी का सफर अभी ठीक से शुरू भी नहीं हुआ और उस मासूम जिंदगी का अन्त हो जाता है, कैसे हुआ उस मासूम जिन्दगी का अन्त?? किसने किया उस मासूम की जिन्दगी का अन्त?? पढ़िए कहानी "सितंबर की वो मनहूस सुबह" मे।

13 reasons why she can't raise her voice

Married women too faced sexual abuse, But they can't refuse.... "Read the whole writing and share your views" Let's provoke every men and woman on this so that it can bring some change.

Child abuse

इस कहानी में अपने अंदर का दर्द बयां करना चाहती हूँ इस कहानी में मैं अपने ज़ख्म को लिखा है I want u all to know how diffucult is girls life. How many faces she have to look on she sees the cruelest man in the world And bear all the pain silently Please read the whole story

Her shriveled Cry

It's all about a girl married in an early age in exchange of some bucks and was crushed every night.

Unbearable pain

Hi, I have tried to express the pain of an ORDINARY INDIAN WOMAN about what she goes through when she comes across with an unpleasant touch. Please read, share and comment if it touches you.

Taking back that night!

This is about a girl who underwent sexual abuse or was raped...her feeling fears and how she overcame her fears..

SEXUAL ABUSE

This Article Is About The Increasing Crimes Against Women ie:- Rapes,Sexual Abuse , Wife Battering , Dowry Deaths And It Mainly Focuses On Sexual Abuse .

Her Sackless Soul

We are living in a world where dogs are tamed by men,and inturn men are becoming dogs. This poetry is on molestation of an innocent teenage girl by her tutor. It based on a real life incident.

एक दर्द

उड़ना चाहती थी वो पर ना ही टूटे पत्तों की तरह ना ही सूखे पत्तों की तरह लहराना चाहती थी पर ना ही फटे दामनों की तरह ना ही चिथड़ों की तरह ।

बेटियां मांगे न्याय.......

समाज मे बेटियों के साथ हो रहे दुष्कर्म से पीड़ित बेटियां न्याय की पुकार कर रही हैं..........

The Holocaust Unseen

Marital rape - a crime a section of women has been victim of.

LOVE: A BIG GAMBLE II

People are expert in exploiting others, mainly the girls, sexually under the garb of love. Remove the blind and be careful! Don't fall prey to them. Speak. Stand up. And teach them a lesson like Sati took Satyam by horns for abusing her sexually.

रेपिस्ट कौन?

बेटा उठ जाओ,सुबह के 9 बज रहे हैं,कब तक सोओगी-----मास्टर केशव प्रसाद ने पल्लवी को आवाज लगाते हुए कहा

हाँ वो मेरा भाई था

एक सच्ची कहानी ,रिश्तों का चीरहरण करती हुयी, विश्वास तोड़ती हुई । अपनी कमजोरी और नासमझी के कारण जो मैंने झेला वो मैं नहीं चाहती दुनिया का कोई भी बच्चा सहे। अपने बच्चों को सुने, उनसे बात करें उनको एक सुरक्षित, खूबसूरत बचपन दें। ये उनका हक है और आपकी जिम्मेदारी।

शोषण किसका

mmb
mmb

एक महिला द्वारा पुरुष का शोषण यौन शोषण पर पुरुष को खलनायक दिखाया जाता है। मेरी कहानी में पहलू दूसरा है।

सगी

जहालत की ज़िन्दगी से वो तंग आ गयी थी। माँ हमेशा कहती थी कि तू अठरा की हो जाए तो तेरी शादी कर दूंगी, तेरे बाबूजी सीधे हैं, तेरी चाची चालाक है, तेरे चाचा बहुत अच्छे हैं; न जाने क्या-क्या समझाती रहती थी लेकिन, तीन साल पहले ही चली गयी।

Mind You

How a women feels when a man raises his hand on her

RAPE : An Avoidable Mishap

Rape - Despite the provisions of stringent punishment in our laws we've failed as a society to check this. It cannot be checked until and unless we understand the dynamics of the vulnerability of our children, women and men at the hands of a known devil.

कुलच्छनी

रमा आदतन गुस्से वाली थी, उसे गलत होता कुछ भी बर्दाश्त नहीं होता. वहीँ अपनी अल्हड़ मिजाजी की वजह से उसकी ताई उसे कुलच्छनी बुलाती थी. एक दिन जब उसने ताई के लड़के को अपनी छोटी बहन के होंठ चूमते देखा तो......

घर के भेड़िये

कुछ भेड़िये हमारे अपने घरों में, ऑफिस में, पड़ोस में यहीं कहीं हमारी नज़रों के आसपास होते हैं। वो बोटी नोंचते हैं। उनको पहचानना ज़रूरी है।

indescribable pain

Learn to respect woman as a human being and give her the dignity that she deserves like everybody.

अनजाना क़त्ल

पीयूष बेटा उठ जाओ सुबह हो गयी आखिर कब तक सोयेगा तू.........मम्मी ने पीयूष को आवाज लगाते हुए कहा उठ जाऊंगा आज तो सोने दे माँ......आज सन्डे है वैसे भी ऑफिस वाले दिन ठीक से सोने को नहीं मिलता....आज तो सो लूँ ढंग से..............उसने रजाई को मुहँ पर ढकते हुए कहा