SEXUAL ABUSE

FILTERS


LANGUAGE

Child abuse

kitabeshayri   209 views   1 year ago

इस कहानी में अपने अंदर का दर्द बयां करना चाहती हूँ इस कहानी में मैं अपने ज़ख्म को लिखा है I want u all to know how diffucult is girls life. How many faces she have to look on she sees the cruelest man in the world And bear all the pain silently Please read the whole story

सितंबर की वो मनहूस सुबह

ritumishra20   931 views   1 year ago

जहाँ उज्ज्वल भविष्य के कामना के लिए जिन्दगी का सफर अभी ठीक से शुरू भी नहीं हुआ और उस मासूम जिंदगी का अन्त हो जाता है, कैसे हुआ उस मासूम जिन्दगी का अन्त?? किसने किया उस मासूम की जिन्दगी का अन्त?? पढ़िए कहानी "सितंबर की वो मनहूस सुबह" मे।

कमली

kavita   565 views   1 year ago

एक हँसमुख जिंदादिल स्त्री के जीवन का वर्णन, दुख और संघर्ष से जूझती स्त्री की कहानी..!

एक सच्ची घटना- बिना शीर्षक की एक आपबीती

Anonymous
  1.07K views   8 months ago

एक ऐसा घाव जो तन पर ही नहीं मन पर भी होता है जो ताउम्र नहीं भरता..

Rising amidst pain

khyati   342 views   1 year ago

It is a poignant account of a woman's life who struggled against the tough situations of her life to emerge as a warrior. it was, for sure, a hardline task for her but not impossible. Her grit to succeed proves it all.

एक दर्द

sonikedia12   113 views   1 year ago

उड़ना चाहती थी वो पर ना ही टूटे पत्तों की तरह ना ही सूखे पत्तों की तरह लहराना चाहती थी पर ना ही फटे दामनों की तरह ना ही चिथड़ों की तरह ।

क्या यही प्यार है

rajmati777   438 views   1 year ago

वो हमसे पर्याय का इजहार करते रहे पर हमें उन पर विश्वास नहीं था। पर फिर भी दिल को समझाया, कर लें विश्वास। दुनिया में सभी एक जैसे नहीं होते। पर हमें क्या पता जिंदगी जिनके नाम करने जा रहे हैं वो तो.............. विश्वास के लायक ही नही है।

हाँ वो मेरा भाई था

swappy   383 views   1 year ago

एक सच्ची कहानी ,रिश्तों का चीरहरण करती हुयी, विश्वास तोड़ती हुई । अपनी कमजोरी और नासमझी के कारण जो मैंने झेला वो मैं नहीं चाहती दुनिया का कोई भी बच्चा सहे। अपने बच्चों को सुने, उनसे बात करें उनको एक सुरक्षित, खूबसूरत बचपन दें। ये उनका हक है और आपकी जिम्मेदारी।

शोषण किसका

mmb   103 views   1 year ago

एक महिला द्वारा पुरुष का शोषण यौन शोषण पर पुरुष को खलनायक दिखाया जाता है। मेरी कहानी में पहलू दूसरा है।

कोरा कागज़

rajmati777   1.64K views   1 year ago

एक ऐसे आदमी की कहानी जो अपने स्वार्थ के लिए कुछ भी करने को तैयार हों जाता है। अपने परिवार, अपनी पत्नी तक को पराया दिखा औरतों से सहानुभूति लेता रहता है। और औरतें भी उसकी बातों में आ उसके लिए सब कुछ करने को तैयार हों जाती है। पर सही रुप में देखा जाय तो वो आदमी मानसिक रोगी की श्रेणी में आता है।

बरसाती कीड़ा का डंक

poojaagnihotry   1.36K views   1 year ago

निहारिका का रुझान मॉडलिंग की ओर था वहीं अविका निम्न मध्यमवर्गीय परिवार से थी और नौकरी करके पिताजी की मदद करना चाहती थी।

अनजाना क़त्ल

suryaa   81 views   1 year ago

पीयूष बेटा उठ जाओ सुबह हो गयी आखिर कब तक सोयेगा तू.........मम्मी ने पीयूष को आवाज लगाते हुए कहा उठ जाऊंगा आज तो सोने दे माँ......आज सन्डे है वैसे भी ऑफिस वाले दिन ठीक से सोने को नहीं मिलता....आज तो सो लूँ ढंग से..............उसने रजाई को मुहँ पर ढकते हुए कहा

घर के भेड़िये

joshimukesh1010   132 views   1 year ago

कुछ भेड़िये हमारे अपने घरों में, ऑफिस में, पड़ोस में यहीं कहीं हमारी नज़रों के आसपास होते हैं। वो बोटी नोंचते हैं। उनको पहचानना ज़रूरी है।

विचित्र बात

Rajeev Pundir   1.50K views   1 year ago

हमारे समाज की कुछ ऐसी वास्तविकताएं हैं जिन्हें जानकार हम हैरान और परेशान हो जाते हैं। 'विचित्र बात' एक ऐसी ही कहानी है जो जो हमारे समाज में लुका-छिपी चल रही विसंगतियों को उजागर करती है। ये कहानी कोई उपदेश या सन्देश हेतु नहीं, बल्कि सावधान रहने के लिए लिखी गयी है।

समाज के भेड़िया

gourav11698   37 views   1 year ago

रेपिस्ट कही बहार से नहीं आता असल में रेपिस्ट हम और आपमें से ही कोई है..जो हमारे आस पास ही रहता है और तलाश करता है एक मौके की और हमें आवश्यकता है हर पल जागरूक रहने की क्योंकि भेड़ियों को एक मात्र मौका चाहिए ... एैसा ही एक समाज का भेड़िया मेरी कहानी में मिलेगा आपको... तो जागरूक रहिए..