रेत की सिलवटें

वो उजली सुबह जो वक्त अंधेरों से लड़ रही थी, एक शाम स्याह होकर रात बन गई और अपने ही अंधेरे में गुम हो गई।

कुछ अनकही बातें........!!

जब ये रातें तन्हाई भरी और खामोश सी होती हैं, जब महकी कुछ यादें आस-पास अपना सेहरा सजाती हैं, जब जिदंगी कोरे कागज सी महसूस होती है,

बहन जी टाइप

दो जुड़वा बहनों की मज़ेदार कहानी अलग व्यक्तित्व अलग व्यवहार से उलझती और सुलझती हुई जिंदगी की कहानी

दीवाली और वो ख्वाब

रूहानी और सच्चे प्रेम की एेसी कहानी जहां उम्र की कोई सीमा नहीं है लेकिन सामाजिक मूल्यों को स्वीकारती ये प्रेम कहानी केवल एक एहसास और ख्वाब बन के रह जाती है

वो अनकहा सा इश्क

सीमा को अजय से कोई शिकायत नही थी , उसे अपने त्याग और समर्पण का कोई मोल भी नही चाहिये था

यादों की डायरी

कहते हैं ना की, जिन्दगी को हम जितना सुलझाना चाहते हैं। वो हमें उतना ही उलझाती है। ज़िन्दगी को अपनी जिन्दगी में सुलझना बहुत कठिन है। इस लिये हमे कोशिश भी नहीं करनी चाहिए। वो जैसी चल रही हैं हमें उसे वैसे ही चलने देना चाहिए।

यही तो इश्क है-३

अब क्या मन्दिरी इस इश्क के बीज से अपने प्रेम की बगिया सजा पाएगी???????

पगफेरा

अपनी बेटी को आर्थिक मानसिक व सामाजिक स्थिरता प्रदान करने के लिए एक माँ के संघर्ष की कहानी जहाँ दमाद सामाजिक मान्यताओं को तोड़ निभाता है बेटे होने का फर्ज ।

हँसी मतलब

अगर कोई लड़की या औरत किसी से हँसकर या खुलकर बात करे तो कई बार लोग उसका मतलब कुछ ओर ही लगा लेते हैं ।

अम्मा -2 (अम्मा के जाने के बाद )

अम्मा को गए तीन साल हो गए, पर कुछ रिश्तो में अभी भी खटास बाकी है जिन्हें समय के साथ काफी सूझ बूझ से सुलझाया गया ।

एक_इश्क_ऐसा_भी

"वहाँ सरहद पर गोलियाँ चलती हैं चाय नहीं।और वैसे भी हम फ़ौजियों को लेट नाइट चैटिंग करने की छूट नहीं होती।"

दिल का मैल

आधुनिक समाज का कड़वा सच.....पठनीय प्रयास

चिरैया” जो मर कर भी उड़ती रही

भगलू ताऊ ने हुक्के का दम मारते हुए अपना हुकुम बजाया “101 क्या, पूरे 251 मिलेंगे, बस चिरैया बाई को नचवा दो । वो नाचेगी तबै मिलेंगे पैसे । बिना उसके नाचे तो चवन्नी ना मिलेगी”

अनाथालय -वृद्धाश्रम

कहीं अपने नहीं मिलते, कहीं अपने छोड़ जाते हैं,

अरे सी -सेक्शन कोई बड़ी बात नहीं..

मेरा दर्द ‌शायद ‌मेरा ‌ही है। ।।।

तेरे प्यार के बही-खाते...(नज़्म)

अटूट रिश्ते की उधड़ी डोर से बनी नज़्म...

कुत्ता चीज़

कहते हैं शब्दों के घाव तीरों से भी ज्यादा होते हैं. ऐसा ही उसके साथ हुआ जब बहुत दिनों बाद वो उसे मिली. क्या हुआ ? जानने के लिए पढ़िए इस छोटी सी कहानी को

मेरी वो दुनिया(भाग 2)

बीच मझधार में डूबती-उबरती प्रेम की दास्तां।

IT ALL BEGAN HERE ....

It's a short and perfect date story that everyone wants .... So here I expressed about my date story .... Please do have a check and comment how you feel about it ...

उड़ान पंखों की

जिन्दगी में प्यार बहुत जरूरी है क्योंकि प्यार के बिना जीवन अधूरा सा लगता है। पर कभी परिस्थितियां ऐसी सामने आ जाती है कि चाह कर भी रिश्ते को अटूट बंधन में नहीं बांध सकते। अहंकार रिश्तों की डोर को तोड़ देता है।

नियति

प्रेम में लंबी प्रतीक्षा के बाद , बंजर धरती पर प्रेम सिंचन की अद्भुत कथा..!

Everyone has a story

First story which I wrote.. may be I will write better next time

Ek Mulakat

yug
yug

Someone relationship is difficult

एक कली जो कभी फूल नहीं बन पाई

प्रेम संबंध और फिर शादी के वादे के नाम पर शारीरिक शोषण. एक ऐसी ही सामाजिक सच्चाई को उर्दू नज़्म में पिरोने की कोशिश.