0
Share




@dawriter

Love

0 0       

सोज ए इश्क में मिटे अबतक।
तुमसे कितने हैं सिलसिले अबतक।
तुझसे मिलके मिटी मेरी हस्ती,
लहरों से ये नदी कहे अबतक।

सोनी केडिया



Vote Add to library

COMMENT