varmangarhwal

0

Most recent posts

कहानी— सोच के दायरे

दोपहर के एक बजे बैंगलोर रेल्वे स्टेशन के टिकट काउंटर से टिकट लेकर उम्र में पच्चीस(25) साल का क्लीन शेव चेहरे वाला सुन्दर हाथ में ऑफ़िस बैग लिये प्लेटफार्म पर आकर चेयर पर बैठ गया.

हमदर्द साथी

चार जनवरी, बुधवार की रात को एक बजे उम्र में पच्चीस(25) साल का क्लीन शेव चेहरे वाला स्मार्ट और हैंडसम सुदर्शन ऑफ़िस में कुर्सी पर बैठा टेबल पर ऑवर टाइम में काम करते हुए चाँदी की ईयर रिंग चैक कर रहा था.

एक लड़की का सबसे अच्छा दोस्त

इस कहानी में एक लड़के और एक लड़की के बीच हो रही बातचीत के माध्यम से ये कहने की कोशिश हैं, कि हमें किसी पर भी विश्वास किये बिना सोच–समझकर अच्छे और बुरे लोगों को पहचानना चाहिए.

Some info about varmangarhwal

EDIT PROFILE
E-mail
FullName
PHONE
BIRTHDAY
GENDER
INTERESTED IN
ABOUT ME