LIFE

FILTERS


LANGUAGE

नई पीढ़ी नये रंग

Manju Singh   251 views   6 months ago

तब और अब का अन्तर हमेशा रहा है किन्तु यदिथोदी सी समझदारी दिखाई जाये तो शायद हम इस अन्तर को समाप्त कर सकते हैं।

चीनी

kumarg   847 views   3 months ago

चीनी फज्र की नमाज के बाद खाँ साहब गणेशी के चाय की थड़ी पर अखबार पढ़ने बैठ गये। अभी भट्टी गरम होने में कुछ समय था ग्राहक इंतजार से ऊब चले न जाएं इसलिए गणेशी ने टीवी ऑन कर दिया। समाचार आ रहे थे जवानों से भरी बस में हुआ विस्फोट।

झुलसी दुआ (कहानी) #ज़हन

Mohit Trendster   146 views   1 year ago

उसकी दिनभर की थकान नींद से कम बल्कि घरवालों से घंटे-आधा घंटे बातें कर ज़्यादा ख़त्म होती थी। अक्सर उसने कितने लोगो को कैसे बचाया, कैसे बीमारी में भी स्टेशन आने वालो में सबसे पहला वो था, कैसे घायल पीड़ित के परिजन उस से लिपट गए...

मानव श्रेष्ठ

Rajeev Pundir   289 views   3 months ago

अक्सर हमें यही उपदेश दिया जाता है कि पृथ्वी पर पाए जाने वाली सभी योनियों में मानव योनी सर्वश्रेष्ठ है I लेकिन क्या ये सही है ? शायद नहीं I हर एक जीव जंतु पशु पक्षी अपने में सम्पूर्ण है I अस्तित्व की इस लड़ाई में वो किसी को हरा भी सकता है और किसी से हार भी सकता है I

A DATE WITH DEPRESSION

mehakmirzaprabhu   17 views   1 year ago

I am so sleepy. Eye lids are heavy as wet winter blankets. Phone is ringing. I forgot to keep it off hook and I have only myself to blame for that. I have only myself to blame for many more things.

ममता की जीत

Manju Singh   1.02K views   5 months ago

शादी के दस साल बाद मेरी बेटी माँ बनी और उस वक्त उसे भगवान ने बस बचा ही लिया। बच्चे के भाग्य से जीवन का वरदान पाया उसने।

मायका: ‘कुछ अहसास’ ‘कुछ उम्मीदें’... जो हर दिल में जगती है।।।

rita1234   709 views   6 months ago

मायका हर लड़की के जीवन में बेहद अहम होता है। किसी भी लड़की का मायका उसे याद करता हो या नहीं मगर उसे ‘मायका’ का सम्मोहन हमेशा होता है।

तेरा ज़िक्र हो रहा है इबादत की तरह

Maneesha Gautam   1.44K views   4 months ago

ख्याल रखिये अपनी पत्नियों का, अपने घर में रहने वाली महिलाओं का, वो आपका ख्याल रखते- रखते अपने आप से दूर हो जाती है. आपके मकान को घर बनाने के लिए अपने शरीर को मशीन बना देती है

Dadaji

shashankbhartiya   57 views   1 year ago

A journey to America: this is a story how my mission to discovery of america met with a pathetic disaster. How even colambus was not spared by Mom.

स्तनपान

rishav   29 views   1 year ago

सामाजिक तबके कभी एक से दृष्टिकोण नहीं पाते! नज़र के साथ बदलते हैं। स्तनपान कराना क्या शर्म का मुद्दा है?

इन प्रतिकूल हवाओं में

sunilakash   28 views   5 months ago

आजकल के दौर में सच्चाई के साथ जीवन जी पाना कठिन हो गया है।

मूक दर्शक

poojaomdhoundiyal   29 views   8 months ago

कितनी बार होता है कि हम किसी अच्छाई या बुराई को देख कर उसे अनदेखा कर आगे बढ़ जाते हैं। या फिर रुकते तो हैं पर बस एक मनोरंजन की आशा से। अगर मनोरंजन हो तो अच्छा वरना मूक दर्शक बन आगे बढ़ जाते हैं। कितना सही है हमारा ये व्यवहार?

मनमर्ज़ी

Kavita Nagar   1.69K views   4 months ago

ये अचानक से रजनीश और उसकी बहू को घर छोड़कर क्यों जाना पड़ा, ऐसी भी क्या बात हुई।

चिट्ठी - दादाजी के नाम

abhi92dutta   663 views   5 months ago

यह चिट्ठी 2016 मैं अपने दादाजी के जन्मदिवस पर उनके याद में लिखा था । एक दिन में लिखने के कारण इसमें वर्तनी सम्बंधित काफी अशुद्धियाँ है । लेकिन मैं उन अशुद्धियाँ नहीं हटाना चाहता हूँ । मेरे लिए यह चिट्ठी कोई रचना नही थी , यह मेरे जज्बात है । और जज्बातों में कोई सुधार की आवश्यकता नहीं होती है

क्या आपके घर में भी कोई सौम्या है...???

rita1234   1.47K views   5 months ago

हमारे समाज में हम अपनी बेटियों को चाहें कितना भी पढ़ा लें हमारी बेटिया चाहें कितनी भी गुणी और सुसंस्कृत हों उनकी शादी देखते समय हम खुद को बहुत कम समझने लगते है...यह एक बहुत बड़ी विडंबना है जो आज भी देश के कई भागों में विशेष रूप से मध्यम वर्गीय समाज में प्रचलित है।