36
Share




@dawriter

माँ ! माँ! मेरी माँ

1 14       
emotionseeker by  
emotionseeker

चंदा है तू सूरज है तू

हर तारे का उजाला है तू

हर कण में तेरा रूप बसा

जल की निर्मल धारा है तू।।

        

         कभी प्यार से लोरी सुनाती

         कभी प्यार से रोटी खिलाती

         कभी मार कर तू हमको

         सही राह है दिखलाती।।

 

याद आया आज पल वो

गिरते हम रोती तू थी माँ

हम हँसते तो हँसती तू थी

हम सोते तब सोती तू थी माँ।।

          

          रात रात को जाग जाग कर

          पालन हमारा करती थी

          हमे बनाने को संस्कारी

          काँटों पर खुद चलती थी।।

 

तू ममता का सागर है

कुछ नहीं धन का गागर है

लूट न पाए कोई जिसे

तू ईश्वर की अमानत है।।

 

            कभी बहन कभी अर्धांगिनी

            कभी बहु कभी बेटी

            पर सबसे प्यारा रूप तेरा

            कहते हैं जिसे हम माँ।।

 

जानी जब ममता माँ की

अपना शीश झुकाया है

हर माँ में अंश खुदा का

बस यही समझ में आया है।।

 



Vote Add to library

COMMENT