0
Share




@dawriter

परामर्श

0 0       
jhalak by  
jhalak

आज सुबह उठकर खुद से एक बात करना,

तू इंसान है, इंसानियत को याद रखना...

ना पड़ना इन भेदभाव के चक्कर में,

तू उस खुदा का बन्दा है,बस उसकी खुदाई याद रखना..

अपने किरदारों में खो ना जाना मेरे दोस्त,

तू तो अनमोल है, अपनी अहमियत याद रखना..

तेरे पीछे आएंगे जो आलोचक हैं तेरे,

पर तू तो प्रेम से पेश आकर , उनमें भी श्रेष्ठ बनना...

अपनी नीयत पाक रख किसी से बात करना,

गर हो गया ऐसा इंसान तो फिर किसी से क्या डरना.....

                              - झलक



Vote Add to library

COMMENT