17
Share




@dawriter

कुछ तो बाकी है

0 7       
soni by  
soni

कुछ तो बाकी है गुजरे लम्हों की यादों का अहसास बाकी है,

जो करना था पर ना कर पाई उसकी टीस बाकी है,

आँखों ने जो सपने देखे उनको सच करने की तड़प बाकी है,

किसी लाचार का सहारा बन उसे मुस्कुराहट देने की कसक बाकी है,

अन्तर्मन में उठते अहसासों को शब्दों की कड़ी में बुनना बाकी है,

जीवन के पहलू में जो बने सवाल उन सवालों का हल बाकी है,

राह चलते जो सबक मिले उन्हें सहेजना बाकी है, अ

भी तो बस उम्मीद की एक किरण मिली, आसमान छुना बाकी है,

अभी तो एक कदम बढ़ाया है मीनू रास्तों की लम्बी डगर चल मंजिल पाना बाकी है,

इस बडी़ दुनिया में मेरे हौसलों की ऊँचाई का अनुमान लगाना बाकी है,

मेरे अरमानों को जहां खुली हवा मिले वो सपनों का संसार बनाना बाकी है,

देश धर्म को लेकर जो कर्तव्य मेरा है वो कर्तव्य निभाना बाकी है,

जहाँ हर कोई अपनापन महसूस करें इसलिए मन का द्वेष मिटाना बाकी है,

जोश में आकर कभी होश ना खोए उस समझ बुझ का आना बाकी है

कहते है असंभव है जीवन का पार पाना पर असंभव को भी संभव करना बाकी है,

माना जीवन पथ है सहज नहीं जीवन के हर पहलू को जीना बाकी है।।

तेरे बिन तेरे संग राधे कृष्ण

#मीनू



Vote Add to library

COMMENT