Social Harassment -Turns into mental violence (Let them rise too)

Your words can change one's thinking ..so I wrote this. I want you to read it from the beginning to the end...make it end on paper but not in your mind.

चलने का नाम ज़िन्दगी

मुहब्बत में धोखा ख़ाने के बाद दुनिया से लड़कर सफ़ल होने वाली एक लड़की के सफ़र को दर्शाती हुई कहानी

A letter to Uncle Justice

An open letter to justice from an Indian girl. She writes whatever questions she had to her Justice Uncle regarding women and other issues.

The girl who looks up at the stars and wish...

Each person created by the Almighty has a distinct destiny. Some get pleasures while others are subjected to challenges and problems. This story will tell you what it takes to overcome your hardships and emerge victoriously.

कर्म का सिद्धांत - Theory of Karma

जन्म के साथ हर जीव सिर्फ कर्म ले कर आया है और मृत्यु के समय कर्म ले कर जाएगा, धन - दौलत - शोहरत सब यही धरा रह जायेगा, बस जाएगी तो सिर्फ दो अटैची - एक काली और एक सफेद...

मर्दानी

अपनी आरामगाह में धारदार हथियार के प्रवेश से दोनों लड़कियाँ सुन्न थी। पहली लड़की की आँखों में जहाँ डर नजर आ रहा था दूसरी ने शांत होकर अपना सिर गर्भ की दीवार पर टिका दिया।

A lesson from the Mute

This article talks about the baseless divisons our society has been segregated into. A division that is purely man-made.

वंशवृद्धि ..... एक पहल !

ये कहानी है रश्मि की हो अपनी गर्भावस्था में बेटे और बेटी के फेर में उलझी है, पर उसके पति का साथ मिलने पर, कैसे वो ...... अपनी सास की मानसिकता को बदलने में सक्षम हो पाती है।

कार्टून या साजिश?

आजकल बच्चो को मनोरंजन के नाम पर परोसी जा रही अश्लीलता के सम्बंध में प्रस्तुत है मेरे निजी विचार..!

कौन आज़ाद है?

वो लाहौर से भागा तो अमृतसर में जा फंसा, उसपर बेटी के साथ बलात्कार का आरोप था। और वो अपनी बेटी से मिलने के लिए बेताब हुआ जा रहा था।

भूखें मरते हम

दुनिया भर में जितना भोजन बनता है, उसका एक तिहाई भोजन बर्बाद हो जाता है।

हादसा

swa
swa

वास्तविक घटना को कहानी का रूप देने की कोशिश की है ड्राइव करते समय सतर्कता बरतें।

वो चाय आज भी ड्यू है. (स्मृति शेष)

मैं अवाक रह गया पर उन्होंने आगे बताया कि , "इंटरव्यू उनका लिया जाता है जिनसे हम अपरिचित हों, न मेरी तुमसे कोई रिश्तेदारी है, न कोई व्यक्तिगत परिचय, पर तुम गज़ब लिखते हो, दिल से लिखते हो, सो भूल जाओ कि मैंने तुम पर कोई अहसान किया है. चयन तो तुम्हारा ही होना था, ..." मैं नि:शब्द हो गया.

गुलाम-ए-हिन्द (करगिल काव्य श्रद्धांजलि)

छंट गया सुर्ख धुआं कब का....दब गया ज़ालिम शोर .... रह गया वादी और दिलो में सिर्फ....Point 4875 से गूँजा "Yeh Dil Maange More!!" ज़मी मुझे सुला ले माँ से आँचल में ....और जिया तो मालूम है ... अपनी गिनती की साँसों में यादों की फांसे चुभ जानी ... रूह गुलाम-ए-हिन्द दिवानी....

​लाश हो जाना ही अच्छा है

मरघट में धू धू कर जलती लाशें जलते हुए भी मुस्कुरा रही थीं जाते जाते ज़िंदा लोगों को उनके मरे होने का अहसास करा रही थीं

मुसीबत का नाम है जिंदगी

जिंदगी मुसीबतों से निकलकर निखरती, मुस्कराती है. इसलिए हंसते-मुस्कराते हुए खुद को तैयार करते रहिए आने वाली मुसीबतों से लड़ने के लिए.

रंगीन लिबास

विक्रम हॉस्पिटल से अपने फ्लैट पर लौट आया।खाना खाने का मन नहीं था, चुपचाप रेडियो चलाया और बिस्तर पर लेट गया। रेडियो पर गाना बज रहा था- 'मैं कहीं कवी न बन जाऊँ तेरे प्यार में ऐ कविता' अबकी बार विक्रम ने अपने कान बंद कर लिए थे।।

​एक कदम….

फैसले बुरे हैं थोपे गए हैं इंसान मर रहे हैं कुछ शोर कर रहे हैं कुछ की दास्तान है रूलाने वाली आखों में सबके पानी

मैं_भिखारी_हूँ‬…

जो मैं लिखने जा रहा हूँ वो वही पढ़ें जिन्हे शब्द पीड़ा महसूस करनी आती है…

भीड़ के अलग अलग चेहरे

“हाँ हाँ महराज जाइए ना हम कहाँ रोक रहे हैं । मगर एक बात कह दें आप जईसा लोक सब के चलते देस पिछड़ा है । लालच है ना जो वो देस की जनता के मन से जब तक नहीं जाएगा देस का भला संभब नहीं है महराज ।”

जो हम फेंक देते हैं उसी का ना मिलना इनकी जान ले लेता है

आज माँ के हाथ का खाना खाने का मन नहीं कर रहा तो चलो बाहर चलते हैं दोस्तों के साथ । होटल में बैठ कर शाही पनीर चिली चिकेन बटर नान ये वो लटरम पटराम मंगाया जीतना मन उतना खाया बाकि का छोड़ कर डकार ली और चल दिए । कभी कभी तो गुस्से में थाली उठा कर फेंक दी ।

ऐ खुदा तू ही बता. . !

भारतीय सेना के प्रत्येक जवान की भावनाओं से प्रेरित कविता।

बौड़मसिंह मर गया

बौड़म जलेबी खाने से मर गया? वाकई?

समझ

एक पुरानी रचना पर नज़र पड़ी तो सोचा आपकी नज़र भी कर दूँ। शायद कोई मुझ जैसा गलती करने से पहले संभल जाए।