DOMESTIC VIOLENCE

FILTERS


LANGUAGE

घरेलू हिंसा: एक संकीर्ण सोच

utkrishtshukla   765 views   1 year ago

........हमें महिलाओं के प्रति अपनी संकीर्ण सोच बदलनी होगी और बाहर निकलना होगा ऐसी रूढ़िवादी परम्पराओं से जो उन्हें सम्मान व बराबरी का दर्जा नहीं दे सकती हैं।..........

A stamped on Rose

misswordsmith   135 views   1 year ago

A small article where I have tried to picturise the scenario of a woman facing domestic violence in both physical and mental form.

लघुकथा- रिश्तों की नीलामी

rashmi   373 views   1 year ago

पैसों से खरीदकर बनाए गए रिश्तें और उन पर हुकुमियत की दास्तां

Domestic violence- hindi poem

ruinedstorm   456 views   1 year ago

Please like it, share and comment if it shakes you. Women gives the birth and deserves the respect. She is the sole creator of life, new life.

घरेलू हिंसा

nis1985   63 views   1 year ago

आज भी हमारे देश में न जाने कितने कमलू जैसे दरिंदे भरे पड़े है जो दारु पीकर अपनी औरतो को प्रताड़ित करते है बेटा न पैदा करने पे, ये घटिया मानसिकता अभी भी १००% ख़त्म नहीं हुई है

498A कितना सफल कितना असफल

swati21   176 views   1 year ago

IPC 498A The most misuse law. आज तक सरकार भी इस कानून को सही अर्थो में लागू नहीं करा पाई है।

आखिर क्यों ...??

nehabhardwaj123   593 views   1 year ago

ये कहानी है राधा की जो अपने पति की शराब की आदतों से बहुत परेशान है

तन के घाव से भारी मन के घाव जिनकी पीड़ा न समझे कोई

Maneesha Gautam   1.12K views   1 year ago

कभी शारिरिक घाव मानसिक घाव को और गहरा कर देते है। तन के घाव को तो समय भर देता है,पर मन के घाव और गहरे होने लगते है। घाव ओर ज्यादा दुख देने लगते है जब समाने वाले को अपनी गलती का अहसास ही नहीं होता।

इज्जत के साथ

Maneesha Gautam   351 views   1 year ago

जो बोलोगे वो बना देंगे चीनी नही है घर में,पर खुशखबरी का है? हमारी लक्ष्मी के लिए रिश्ता है आया है.

दर्द

Pallavi Vinod   1.02K views   11 months ago

हर लड़की के अपनी शादी को लेकर कुछ सपने होते हैं,लेकिन जब वो सपने टूटते हैं तो उनकी चुभन जिंदगी का सबसे बड़ा दर्द बन जाती हैं।

श्रेणी- Story/Domestic Violence

sonikedia12   115 views   1 year ago

हाँ ये शब्द कई बार सुना । कई चोट और निशान भी देखे। पर उन चोटों और निशानों का क्या जो बड़े प्यार से दिए जाते हैं पर हम कई बार पहचान नहीं पाते और अंदर ही अंदर घुटते है एक जिंदा लाश की तरह जिसमें सिर्फ़ साँसे होती है पर खुद के लिए नहीं । इसमें गलती किसकी ये तय करना भी कठिन होता है ।

नन्हा कदम

rajmati777   568 views   1 year ago

एक ऐसी महिला की कहानी जिसे अपनी सुहागरात में क्या क्या करना पड़ा।सास ने बहू का वर्जिनिटी टेस्ट करवा उसे सदमे में डाल दिया।

घर का मामला

varsha   550 views   1 year ago

आज के समय में जब हम अपने आसपास कुछ भी गलत होता देखकर भी आंखें मोड़ लेते हैं तो हम कैसे अपने लिए संवेदनशीलता की उम्मीद रख सकते हैं।

सुलोचना....( सच्ची कहानी )

dhirajjha123   132 views   1 year ago

बदलाव का अधिकार हर किसी के पास है । पर इस अधिकार का पूरा फायदा उसी को मिलता है जिसमें लड़ने की ताकत है, जिसमे हक़ छीन लेने की हिम्मत है । जो लड़ सकता है अपनों के ख़िलाफ, जो चुनौती दे सकता है सनातन से चले आ रहे बेकार के रिवाज़ों को

Consensual Rape

mehakmirzaprabhu   127 views   1 year ago

Marital rape is a form of domestic abuse that is never spoken about, infact mostly not considered as a reason to stand up against by the women it self.