DOMESTIC VIOLENCE

FILTERS


LANGUAGE

रिक्शेवाली चाची

Mohit Trendster   1.01K views   5 months ago

...वो तो बेचारे सबके पंचिंग बैग होते हैं। अन्य लोगो के अहंकार को शांत करने वाला एक स्थाई पॉइंट। ऐसा ही कुछ सीधे लोगों के साथ उनके घर और बाहर होता है। कई बार तो सही होने के बाद भी ऐसे लोग बहस हार जाते हैं।

दर्द

Pallavi Vinod   1.01K views   7 months ago

हर लड़की के अपनी शादी को लेकर कुछ सपने होते हैं,लेकिन जब वो सपने टूटते हैं तो उनकी चुभन जिंदगी का सबसे बड़ा दर्द बन जाती हैं।

इज्जत के साथ

Maneesha Gautam   348 views   8 months ago

जो बोलोगे वो बना देंगे चीनी नही है घर में,पर खुशखबरी का है? हमारी लक्ष्मी के लिए रिश्ता है आया है.

रोटी 20 सेंटीमीटर गोल होनी चाहिए।

Maneesha Gautam   986 views   8 months ago

अपनी बेटी को माफ कर दिजिए पापा,मै तलाक चाहती हूँ

ख़ुद्दारी

cloudy   1.02K views   10 months ago

एक छोटी सी बच्ची की ख़ुद्दारी ओर आत्मसम्मान की कहानी...

तन के घाव से भारी मन के घाव जिनकी पीड़ा न समझे कोई

Maneesha Gautam   1.11K views   11 months ago

कभी शारिरिक घाव मानसिक घाव को और गहरा कर देते है। तन के घाव को तो समय भर देता है,पर मन के घाव और गहरे होने लगते है। घाव ओर ज्यादा दुख देने लगते है जब समाने वाले को अपनी गलती का अहसास ही नहीं होता।

आखिर क्यों ...??

nehabhardwaj123   587 views   11 months ago

ये कहानी है राधा की जो अपने पति की शराब की आदतों से बहुत परेशान है

शादी के बाद का बर्थडे

kavita   1.34K views   1 year ago

संतान द्वारा माता पिता को खुश रखने की चाह ....अर्थात बच्चे बड़े हो गए ...! प्रेम, विवशता, और उनके अनकहे दर्द को दर्शाती एक लघु कथा

नन्हा कदम

rajmati777   564 views   1 year ago

एक ऐसी महिला की कहानी जिसे अपनी सुहागरात में क्या क्या करना पड़ा।सास ने बहू का वर्जिनिटी टेस्ट करवा उसे सदमे में डाल दिया।

498A कितना सफल कितना असफल

swati21   173 views   1 year ago

IPC 498A The most misuse law. आज तक सरकार भी इस कानून को सही अर्थो में लागू नहीं करा पाई है।

घर का मामला

varsha   543 views   1 year ago

आज के समय में जब हम अपने आसपास कुछ भी गलत होता देखकर भी आंखें मोड़ लेते हैं तो हम कैसे अपने लिए संवेदनशीलता की उम्मीद रख सकते हैं।

और मैं मुक्त हो गयी

kavita   662 views   1 year ago

शोषण के विरुद्ध एक स्त्री के आत्मबल संजो कर विद्रोह करने की मार्मिक कथा

साढ़े तीन ऑंखें

dhirajjha123   428 views   1 year ago

एक कहानी मानवीय प्रेम की, एक कहानी एक आम औरत की, एक कहानी एक माँ की

घरेलू हिंसा

nis1985   60 views   1 year ago

आज भी हमारे देश में न जाने कितने कमलू जैसे दरिंदे भरे पड़े है जो दारु पीकर अपनी औरतो को प्रताड़ित करते है बेटा न पैदा करने पे, ये घटिया मानसिकता अभी भी १००% ख़त्म नहीं हुई है

कभी कभी लड़की वाले भी दहेज के दोषी होते हैं

nehabhardwaj123   247 views   1 year ago

ये कहानी है चड्ढा साहब की जिन्होंने लड़के वालों के न चाहते हुए भी अपनी बेटी की दहेज दिया, पर दूसरी बेटी की शादी करने के समय आर्थिक स्थिति तंग हो चुकी थी।