Neha Bhardwaj

Neha Bhardwaj
Verified Profile

This is a verified account of top writer.

0

Most recent posts

कभी कभी लड़की वाले भी दहेज के दोषी होते हैं

ये कहानी है चड्ढा साहब की जिन्होंने लड़के वालों के न चाहते हुए भी अपनी बेटी की दहेज दिया, पर दूसरी बेटी की शादी करने के समय आर्थिक स्थिति तंग हो चुकी थी।

गुप्ता जी के बेटे की मुंह दिखाई

ये एक सपना, जो शशांक देखता है। कि उसे लड़की वाले देखने आए और तरह तरह के सवाल पूछने लगे तो उसे कैसा लगेगा।

माँ मुझे आना है .....

एक अजन्मी बच्ची की भावनाएं , जिसे एक लड़की होने के कारण जन्म नही लेने दिया गया ....।

बेटियां बोझ नही होंगी

एक कल्पना बेटियों के लिए .... ,जिस दिन वो समाज मे खुल कर जी पाएंगी

गुड्डी की साईकल

ये कहानी है एक लड़की गुड्डी की जो अपने पापा से जिद करके एक साईकल लेती है पर वो उसके लिए हर रोज एक नई मुश्किल बन जाती है ....।

गुल्लक के टुकड़े

ये कहानी है नन्हे से लड़के रिंकू की , जिसे अपनी गुल्लक के पैसों से कुछ खासा ही लगाव है ।

पुराने घर का छज्जा .....!

ये कहानी नही एक संस्मरण है बचपन का ....।

खामोशी ...…...! कभी कभी हाल भी है ।

ये कहानी है ,आस्था और किशोर की जिनके जीवन मे थोड़ी सी मायूसी और एक रूखापन है ,जिसे आस्था अपनी सूझ बूझ से हल करती है ।

औरतें .....! ऐसी क्यों होती है ......।

ये कहानी है ,एक औरत अंजलि की जो यादों के घेरे में खो जाती है ।

वंशवृद्धि ..... एक पहल !

ये कहानी है रश्मि की हो अपनी गर्भावस्था में बेटे और बेटी के फेर में उलझी है, पर उसके पति का साथ मिलने पर, कैसे वो ...... अपनी सास की मानसिकता को बदलने में सक्षम हो पाती है।

दादी की यादें .....!

एक यादों में खोई सी राशि जो बरबस ही अपनी दादी को याद करते हुए उनकी ही दुनिया मे खो जाती है !

विदाई- आत्मग्लानि एक पिता की !

ये कहानी है एक लड़की साक्षी और उसके पिता के रिश्ते की, एक बेटी की भावनाओं क , और एक पिता की आत्मग्लानि भी !

Some info about Neha Bhardwaj

  • Female
  • 19/12/1986

Love to write for my mother but she left us , now I am writing for her and because of her.

EDIT PROFILE
E-mail
FullName
PHONE
BIRTHDAY
GENDER
INTERESTED IN
ABOUT ME