Amol Chimankar

Amol Chimankar

0

Most recent posts

मुझे विचार करने पर बाध्य करती है-एक अविष्मरनिय संकल्पना-

हक की लड़ाई अगर लड़ी जाती है-और इस पर हमें दुनिया आतंकवादी कहती है-तो मेरे नजरो में सारे देशभक्त आतंकवादी है-

प्रेम व्यथा

मनुष्य के जीवन में मात्र उसके जीवित रहने हेतु,अन्न,वस्त्र,निवारा की अत्यंत आवश्यकता है,परन्तु-वास्तविकता जीवन की इन सब क्रियाओं से भी कही और भी महत्वपूर्ण हो जाती है,जब जीवन में प्रेम का आगमन हो जाता है। किंतु-आज का प्रेम मात्र युवक और युवतियों हेतु-मात्र शरीर की विलासिता का साधन रह गया है।

स्त्री को वस्तु समझने वाले-

स्त्री को जो भी-वस्तु समझते आया है-जिसने भी स्त्री सन्मान नही किया-उसका पतन निश्चित ही हुआ है।यह मैं नहीं इतिहास कहता है.

Some info about Amol Chimankar

  • Male
  • 8/5/1993

EDIT PROFILE
E-mail
FullName
PHONE
BIRTHDAY
GENDER
INTERESTED IN
ABOUT ME