YOUR STORY

FILTERS


LANGUAGE

​ना जाने क्यों ?

dhirajjha123   8 views   2 years ago

सुख और दुःख तो एक सिक्के के दो पहलुओं के समान हैं इनका आना जाना तो जीवन में लगा रहता है मगर जब खुशियाँ एक दम से एक ही दिन में किसी से एकदम किनारा कर लें तब इंसान अपने उस दुःख और दर्द को बयान करने की हालत में भी नही रहता ।

बात भले कल की हो वास्ता आज से ही है…

dhirajjha123   6 views   2 years ago

वर्ना तुम्हारा ये ख़ामोश रहना आने वाली नस्ल को पूरी तरह कर बर्बाद देगा

​चलो मर जाऐं

dhirajjha123   6 views   2 years ago

अपनी चीखों को दबा लो टूटती सांसों को थम जाने दो

So let me show you the real me!!

Shreya Dubey   6 views   2 years ago

I usually meet people who judge others without knowing them.. So to know the reason behind doing so,I googled it. And read few reasons.. People have their own past experiences. People have ego clashes. Revengeful mind. Signs of Jealousy. Or they may be 'perfect' (sounds weird)

Fathers legacy

Anonymous
  6 views   1 year ago

My father was just a person who was always thinking about his children. A middle class man who was known for his virtues and calmness.

पापा

dhirajjha123   5 views   2 years ago

​पहले ही क्षमा के साथ ये बात बता दूँ की कुछ महीनों तक जब मेरे सामने उन मनहूस दिनो की कोई पोस्ट आएगी तो मैं पापा पर ना चाहते हुए भी लिखने पर मजबूर हो जाऊँगा । क्या करूँ खुद से अपना हाल कह कह कर थक गया हूँ इसीलिए यहाँ लिखने पर मजबूर हो जाता हूँ ।