YOUR STORY

FILTERS


LANGUAGE

अज्ञात आतंकवादी

abhi92dutta   60 views   1 year ago

हत्या और मुक्ति के बीच का अंतर ! !

अंतर्द्वंद

saurabh1988   33 views   1 year ago

मनोस्तिथि सामाजिक पीड़ा से ग्रसित जिसमे समावेशन है कुंठा और निराशा और भावुकता का

Fathers legacy

Anonymous
  6 views   8 months ago

My father was just a person who was always thinking about his children. A middle class man who was known for his virtues and calmness.

बस इश्क़

saurabh1988   29 views   1 year ago

ये बस इश्क़ है 😊😊😊😊😊😊😊😊😊😊😊😊😊😊😊😊😊😊

"बस... उस पल का तुम इंतजार करना"

ankitg   22 views   1 year ago

ये मेरे जीवन की पहली स्वरचित कविता है जिसे मैंने एक संदेशात्मक रूप में लिखा है या यूँ कहें कि ये मेरा पहला प्रेम पत्र है जिसे मैंने उस लड़की के लिए लिखा है जिससे मैं बेइंतेहा मोहब्बत करता हूँ

इत्रसाज की बेटी

kumarg   59 views   1 year ago

खाला सुबह ही धमका गई है अम्मी को ,अब चालीस रोज घर से बाहर मत निकलना । वो दिन चढ़े चुपचाप लेटी रही की शायद खाना बन जाने के बाद अम्मी उठ जाने की चिरौरी करेगी । लेकिन दस बजे के करीब अम्मी भी बगल में आकर लेट गई । कुछ देर में ही अम्मी के खर्राटे गुंजने लगे ।

WHERE DOES AKRAM MALIK STAY?

mehakmirzaprabhu   18 views   1 year ago

Stories reflecting today's times of fear, mistrust and love

नज़्म

gaurav97p   9 views   1 year ago

प्रेम में भी एक तन्हाई है पीड़ा है जो इससे सहन कर लेता है और प्रेम को पा लेता है वो ही सत्यार्थ प्रेम का हकदार है।।

SAVE THE BOY CHILD!

mehakmirzaprabhu   30 views   1 year ago

"He sounded unsure, excited, scared, all at the same time. Hassan lay with his chest pinned to the ground. Kamal and Wali each gripped an arm, twisted and bent at the elbow so that Hassan's hands were pressed to his back.

रुखसती

gaurav97p   15 views   1 year ago

ये रचना हैं उन सभी को समर्पित है जो समाज के झूठे मुखोटे के शिकार होते हैं अच्छा है नियम बनाना लेकिन ऐसा न हो की जो नियम जीने के लिए बनाये हैं उसके लिए आप उन प्रेम करने वालो की ज़िन्दगी बर्बाद कर दे जो सच में नहीं जी सकते हैं एक दूजे के बिना ||

I bleed, I bleed, I bleed

abhilasha verma   15 views   1 year ago

The following piece is a direct answer to GST, 2017.

Just For Love!

Rajeev Pundir   70 views   1 year ago

Where love can be divine, sacred and the name of sacrifice for some, it can be plagued by cynicism, obsession and possessiveness for the others. Read the story to know the other aspect of love ; compelling a few to commit unthinkable, unimaginable ghastly acts just in the name of love.

अस्पृश्यता Vs आरक्षण

advit   9 views   1 year ago

Its a conservative mind set of people towards downtrodden

बाबूजी वो गुड़िया ला दो

nis1985   103 views   1 year ago

आज छुटकी ने फिर से अपने मजदूर पिता से एक फरमाइश करदी....बाबुजी आज तो हमको वो गुड़िया ही चाहिये बस जो हमने दुकान पे देखी थी...

बात भले कल की हो वास्ता आज से ही है…

dhirajjha123   6 views   1 year ago

वर्ना तुम्हारा ये ख़ामोश रहना आने वाली नस्ल को पूरी तरह कर बर्बाद देगा