YOUR STORY

FILTERS


LANGUAGE

“पिता से पहले पिता के बाद”

dhirajjha123   25 views   2 years ago

डेढ महीने हस्पतालों चक्कर काटे थे उन भाईयों ने अपने पिता को लेकर । वो पिता जिसका घूरना ही काफी होता था इन बेटों के मन में वो डर पैदा करने के लिए जो एक बाप को लेकर हर बेटे में होता है उस बाप को थप्पड़ तक मारे थे इन बेटों ने ।

पल ..

abhi92dutta   492 views   1 year ago

जो व्यक्ति सबसे अधिक हँसता है, वह अपने अंदर सबसे अधिक दुःख को समेटे रहता है

क्षितिज के पार

rgsverma   87 views   2 years ago

"...इस बीच जो बात मुझे उलझन में डालती रही वह सृष्टि के प्रति मेरी सोच और उसको लेकर आत्मग्लानि थी. मुझे लगता था कि उसे मैंने मंझधार में छोड़ दिया था..." (कुछ चुनींदा अंश)

यादें

mmb   909 views   1 year ago

उम्र के अंतिम पड़ाव में जीवन की यादें उमड़ घुमड़ कर आती हैं।

SAVE THE BOY CHILD!

mehakmirzaprabhu   31 views   2 years ago

"He sounded unsure, excited, scared, all at the same time. Hassan lay with his chest pinned to the ground. Kamal and Wali each gripped an arm, twisted and bent at the elbow so that Hassan's hands were pressed to his back.

बड़े बड़े लोग

Rajeev Pundir   1.12K views   1 year ago

निम्न मध्य श्रेणी के लोग संपन्न लोगों के बारे में क्या सोचते हैं, पढ़िए एक ऐसे ही इंसान की खिन्नता को दर्शाती इस कहानी में।

पुराने किस्से

dhirajjha123   14 views   2 years ago

​पूरे साल भर पहले की बात है उसके बाद बहुत कुछ बदला पर लोग और उनके हाल अभी भी बदलाव की उम्मीद वाले किनारे पर ही खड़े हैं । सफर की घटना

पापा

dhirajjha123   5 views   2 years ago

​पहले ही क्षमा के साथ ये बात बता दूँ की कुछ महीनों तक जब मेरे सामने उन मनहूस दिनो की कोई पोस्ट आएगी तो मैं पापा पर ना चाहते हुए भी लिखने पर मजबूर हो जाऊँगा । क्या करूँ खुद से अपना हाल कह कह कर थक गया हूँ इसीलिए यहाँ लिखने पर मजबूर हो जाता हूँ ।

घर वाकई स्वर्ग है

dhirajjha123   81 views   2 years ago

घर में घुसते ही पापा वाला खाली पलंग जब तक रुलाए तब तक माँ की मुझे देख चमकती आँखें मुस्कुराने पर मजबूर कर देती हैं और लगता है माँ में ही कहीं पापा भी बाहें फैलाए सीने से लगाने को बेचैन हैं

मरने के बाद सम्मान

dhirajjha123   21 views   2 years ago

​मरने के बाद सम्मान होगा मेरे शब्दों को तवज्जो तब मिलेगी

लोगों का न्याय

sunilakash   350 views   1 year ago

वह निर्दोष व्यक्ति जिसने इंसाफ की बात कही थी, लोगों की मार से छूटने के लिए छटपटा रहा था और वहां मौजूद लोग अब भीड़ में मिलकर या तो तमाशा देख रहे थे, या उसे पीट रहे थे।

स्मृति

Manju Singh   742 views   1 year ago

बच्चों के दिल की बात को समझने के लिये उन पर यकीन अवश्य करें और उनकी बातों को कभी बहाना समझ कर टालने की गलती ं करें

चमत्कार

Manju Singh   291 views   1 year ago

इश्वर हमें दिखायी तो नही देते लेकिन हर घड़ी वो हमारे साथ होते हैं ।

रीयूनियन

abhi92dutta   75 views   2 years ago

बचपन के चार दोस्त । पंद्रह साल बाद “रीयूनियन” का प्लान ।

जान

mrinal   265 views   2 years ago

इंटरव्यू के अंतिम चरण में चयन न होने पर हताश और क्रुद्ध आशुतोष कमरे पर पहुंचते ही पत्नी पर बरस पड़ा।