SHAYARI

FILTERS


LANGUAGE

गुमगश्त सी खामोशियाँ

nis1985   35 views   11 months ago

चलो एक ऐसे जहाँ, जहा बस सुकूँ मिले, करके आलिंगन तुम, मिटा दो सारे गिले......

बंद किताबें

joshimukesh1010   22 views   1 year ago

कुछ गुलाब जो किताबों में बंद पड़े हैं....

मुर्दा बोल रहा है

gauravji   39 views   8 months ago

कभी सुना है क्या लाश को बोलते हुए ? मैंने देखा है उसे कब्र में रोते हुए ।

जिन्दा है आज भी वो मुझमें जैसे कहीं।

chandrasingh   17 views   9 months ago

जिन्दा है आज भी वो मुझमें जैसे कहीं ॥

आंसू

utkrishtshukla   27 views   1 year ago

बहता आंसू बेवजह तो नहीं... .........

दो नैनों की बात कई

jhalak   10 views   1 year ago

जीवन के कई सत्य तो इस हाढ मांस के देह में ही है

ख्याल क्यों है.....!

chandrasingh   15 views   1 year ago

मै बोला गर करता हो, बेवफाई तो मेरे लिये ये ख्याल क्यों है.?

कोई होता

poojaomdhoundiyal   22 views   1 year ago

कभी किसी और का आपमें विश्वास रखना आपकी जिंदगी की बुझती हुई लौ को फिर से रौशन कर देता है। क्या आपको भी तलाश है ऐसे किसी अपने की!?

खामोशियों को बोलने दो

Nidhi Bansal   120 views   7 months ago

कभी कभी शब्दो से अधिक खामोशियाँ असर करती हैं।

પહોંચી ગયો

spujara19   11 views   6 months ago

એક ગુજરાતી ગઝલ આપણી સમક્ષ રજુ કરું છું

जिंदगी

gauravji   52 views   8 months ago

कोशिश करते हो क्यूं बदलने की मुझे, मेरी नफरत के शिकार बनोगे क्या?

क्या कहूँ

sonikedia12   15 views   1 year ago

आँखों से मुलाक़ात हुई थी धड़कनों ने इजहार किया था

Shayari

sonikedia12   16 views   1 year ago

किसी ने सुलगाया किसी ने हवा दी ।

खाना ठंडा हो रहा है…

Mohit Trendster   166 views   11 months ago

काश की आह नहीं उठेगी अक्सर, आईने में राही को दिख जाए रहबर, कुछ आदतें बदल जाएं तो बेहतर, दिल से लगी तस्वीरों पर वक़्त का असर हो रहा है… …और खाना ठंडा हो रहा है।

साथी

mmb   110 views   8 months ago

साथी का महत्व बार बार याद आता है चेहरा साथी का साथी के चले जाने के बाद।