SHAYARI

FILTERS


LANGUAGE

मेरे अंदर का शून्य

nis1985   49 views   8 months ago

मेरे अंदर का शून्य उस अनंत की ओर जाना चाहता है

जख्म

gauravji   32 views   9 months ago

" जहर" जैसा भी हो जख्म पर मलते रहना

वो बात

neerajself   22 views   10 months ago

इन बातों में वो बात नहीं...........

कांच हु अभी....

nis1985   62 views   11 months ago

कांच हूँ अभी,खुद को तराशना है बाकी, जब आइना बन जाऊं,तब दुनिया देखेगी......

वजूद

jhalak   12 views   1 year ago

किसी​ के वजूद का अपमान करना दिल तोड़ने से ज्यादा बड़ा अपराध है

सज़ा

neerajself   19 views   10 months ago

ये बात सही है कि कभी दिल में रहे हो तुम...

चाँद थी वो

neerajself   43 views   10 months ago

I tried to answer of 'who was she?'this way 'chand thi wo'

रूह से रूह जुड़ी थी

ritumishra20   42 views   8 months ago

कभी उसके ही दम से रौशन जिंदगी थी हर कदम इश्क की खुश्बू सी उड़ी थी

मुंतजिर

utkrishtshukla   33 views   11 months ago

इंतज़ार करना हर शख्श के लिए आसान नहीं ......

शब्द

poojaomdhoundiyal   23 views   1 year ago

किसी के शब्द नयी उमंग से भर देते हैं तो किसी के आत्मा को तोड़ देते हैं। किसी ने सही ही कहा है ’ऐसी बानी बोलिये मन का आपा खोय, औरन को शीतल करे आपहु शीतल होय ‘।

शोर

poojaomdhoundiyal   29 views   1 year ago

किसी के दिल की आवाज़ दूसरे तक पहुँच ही नहीं रही है। हर किसी को एक ख़ामोशी ने घेरा हुआ है। इतना की उसकी चीख किसी भी और तरह के शोर की आवाज़ को दबा दे रही है। ख़ामोशी और अकेलेपन के बदल गरज कर हर शोर को दबा दे रहे है।

सहर

utkrishtshukla   43 views   1 year ago

कई बार हम जल्दबाजी में गलत फ़ैसले ले लेते हैं।

अंधी दौड़

utkrishtshukla   56 views   1 year ago

आज व्यक्ति पैसे व भौतिक ऐश्वर्य की चीजों के पीछे अंधाधुंध दौड़ रहा है। वह पैसे की चमक में अपनों को भी नहीं पहचान पा रहा है।

मन और बुद्धि

utkrishtshukla   33 views   1 year ago

मन और बुद्धि में अंतर चिंतन​ द्वारा सम्भव हो​ सकता है।

सच

soni   26 views   10 months ago

फिसलते पाँव अक्सर झूठ की जमीन पर मिले हैं,