0
Share




@dawriter

कायनात

2 77       

 

क्या? तेरी बनाई कायनात झूठी है खुदा,
क्यूं? जिंदगी अब भी मुझसे रूठी है खुदा।


पैदा होते ही दूध दिया,
कहां? मेरी अब रोटी है खुदा।
पैदा हुआ तो नंगा था,
कहां? मेरी अब धोती है खुदा।


क्या? तेरी बनाई कायनात झूठी है खुदा
क्यूं? जिंदगी अब भी मुझसे रूठी है खुदा।


मौत तो एक दिन सबको आनी है,
क्यूं? ये दुनिया रोज सोती है खुदा।
तब आया तो अकेला था,
क्यूं? जाता हूं तो दुनिया रोती है खुदा।


क्या? तेरी बनाई कायनात झूठी है खुदा
क्यूं? जिंदगी अब भी मुझसे रूठी है खुदा।

 

 

उत्कृष्ट शुक्ला 
#utkrisht (copyright)



Vote Add to library

COMMENT