0
Share




@dawriter

वजूद

1 9       
jhalak by  
jhalak

 

मुकर ना जाना मुझे जानने के बाद मेरे वजूद का अपमान होगा

इन गलियों के भिखारी भी मेरी बोली लगाते हैं

            - झलक



Vote Add to library

COMMENT