0
Share




@dawriter

रूह से रूह जुड़ी थी

1 15       

  • कभी उसके ही दम से
  • रौशन जिंदगी थी
    हर कदम इश्क की
  • खुश्बू सी उड़ी थी
    जिस्म की सिर्फ परछाई थी
  • रूह से रूह जुड़ी थी..
    मेरा रहबर था वो,
  • कि मेरा मुनसिब था वो..
    ना जाने मेरा क्या था वो
    जिसकी हर पुकार, 
  • हर आहट, 
  • कभी 
  • दिल से मैने सुनी थी.... 

            



Vote Add to library

COMMENT