0
Share




@dawriter

दर्द

0 49       

 

जो तुममें 'दर्द' नहीं तो क्या मेरे तुम काम के ?
जाओ 'हँस' कर अपनी रौशन 'फ़िज़ा' करो..



Vote Add to library

COMMENT