SHAYARI

FILTERS


LANGUAGE

जिंदगी का फलसफा

nis1985   716 views   2 years ago

धुआँ धुआँ सा है जहाँ, रौशनी बहुत कम है.....

"लिख दूँ"!!!

ayushjain   28 views   2 years ago

"सोचता हूँ लिख दूँ खुद को दिल खोल कर फिर सोचता हूँ रहने दूँ......

मैं तुम और ये आवारगी ।

chandrasingh   82 views   2 years ago

जिन्दगी में अगर कभी बिछड़ना हो तो, एक काम करना बस जरा सा तुम मेरा मान करना। मुझसे कभी किश्तो मे मत बिछड़ना जब, मैं मुकम्मल नींद मे चला जाऊँ तब, तुम मुकम्मल तौर पर बिछड़ जाना, बस ज़िन्दगी में इतना तुम अहसान कर जाना।

रूह से रूह जुड़ी थी

ritumishra20   110 views   1 year ago

कभी उसके ही दम से रौशन जिंदगी थी हर कदम इश्क की खुश्बू सी उड़ी थी

साथी

mmb   140 views   1 year ago

साथी का महत्व बार बार याद आता है चेहरा साथी का साथी के चले जाने के बाद।

खामोशियों को बोलने दो

Nidhi Bansal   144 views   1 year ago

कभी कभी शब्दो से अधिक खामोशियाँ असर करती हैं।

निष्ठुर

rajesh1720   29 views   2 years ago

परिवार मे हमसे बेहद करीब पर कठोर , डर और डाँट का दूसरा नाम , पर आज बहुत याद आता है वो शख्स ।

कांच हु अभी....

nis1985   102 views   2 years ago

कांच हूँ अभी,खुद को तराशना है बाकी, जब आइना बन जाऊं,तब दुनिया देखेगी......

मेरी आज़ादी का रुआब

Mohit Trendster   37 views   1 year ago

जंग तुझसे नहीं तेरे खयालो से है... बात मेरे ज़हन मे जलते सवालो से है... गलत होकर भी सही ठहराये गये जवाबो से है... जिनके पीछे रहकर तू राज करता उन हिजाबो से है...

सज़ा

neerajself   26 views   2 years ago

ये बात सही है कि कभी दिल में रहे हो तुम...

दिल का हाल शायरी की जुबान

rashmi   121 views   2 years ago

कल्ब़ यानि दिल के हाला़त को शायरी में कहने की कोशिश की है

बेईमान मौसम

chandrasingh   124 views   2 years ago

मौसमों ने मिल के साजिशें रच रहे थे, उस शरमाती हुई को, बेशरम कर रहा थे !!

इच्छा

Nidhi Bansal   130 views   1 year ago

मनुष्य का 'कभी ना खत्म होने वाली 'इच्छाओ का सिलसिला,उसके जीवन को नरक बना देता है।

जिन्दा है आज भी वो मुझमें जैसे कहीं।

chandrasingh   25 views   1 year ago

जिन्दा है आज भी वो मुझमें जैसे कहीं ॥

जख्म

gauravji   41 views   1 year ago

" जहर" जैसा भी हो जख्म पर मलते रहना