SHAYARI

“ अगर तुम चाहो तो ”

ankitg   11 views   4 days ago

प्रस्तुत कविता में मैंने अपनी प्रेयसी को एक उर्जात्मक रूप में दिखाने कि कोशिश की है, एक कवि अपनी कविता (प्रेयसी) के सूक्ष्म वियोग में जब कुछ रचनायें लिखता है, उस दर्द को मह्सूस कर लिखने का प्रयास किया है...

खामोशियों को बोलने दो

Nidhi Bansal   85 views   1 week ago

कभी कभी शब्दो से अधिक खामोशियाँ असर करती हैं।

इच्छा

Nidhi Bansal   64 views   3 weeks ago

मनुष्य का 'कभी ना खत्म होने वाली 'इच्छाओ का सिलसिला,उसके जीवन को नरक बना देता है।

साथी

mmb   82 views   1 month ago

साथी का महत्व बार बार याद आता है चेहरा साथी का साथी के चले जाने के बाद।

रूह से रूह जुड़ी थी

ritumishra20   17 views   1 month ago

कभी उसके ही दम से रौशन जिंदगी थी हर कदम इश्क की खुश्बू सी उड़ी थी

मुर्दा बोल रहा है

gauravji   19 views   1 month ago

कभी सुना है क्या लाश को बोलते हुए ? मैंने देखा है उसे कब्र में रोते हुए ।

दर्द

gauravji   32 views   1 month ago

मैं हूं अकेला तो साथ कोइ क्यूं रहेगा परछाई से कह दो दूर ही रहे मुझसे । :- गौरव

जिंदगी

gauravji   31 views   1 month ago

कोशिश करते हो क्यूं बदलने की मुझे, मेरी नफरत के शिकार बनोगे क्या?

मेरे अंदर का शून्य

nis1985   21 views   1 month ago

मेरे अंदर का शून्य उस अनंत की ओर जाना चाहता है

जिन्दगी ये खबर नहीं तुम्हें

sonikedia12   20 views   1 month ago

Hindi Shayari On Love, Life And Retionship

जिन्दा है आज भी वो मुझमें जैसे कहीं।

chandrasingh   12 views   2 months ago

जिन्दा है आज भी वो मुझमें जैसे कहीं ॥

होता

sonikedia12   11 views   2 months ago

रदीफ़ - तो होता कहा जो दिल का किया तो होता मेरा जहाँ भी तेरा तो होता

"हिंदुस्तान से"!!!

ayushjain   8 views   2 months ago

"ना दिन से, ना रात से, ना बेहक़ी शाम से हमें तो मोहब्बत है अपने हिंदुस्तान से"

अंत्येष्टि

nis1985   63 views   2 months ago

भावनाये गर शून्य हो जाये, उनकी अंत्येष्टि कर देना श्रेष्ठ है......

एक गज़ल

rashmi   13 views   2 months ago

अपने जीवनसाथी के लिए दिल से की गई प्रार्थना

डर लगता है

poojaomdhoundiyal   13 views   2 months ago

हम भले ही कह ले की आज हर कोई अकेला है लेकिन ये भी सच है कि कहीं न कहीं वो अपने अंदर एक डर भी समेटे हुए है।

मेला

utkrishtshukla   25 views   2 months ago

मेले में मां बाप से बिछड़ने का दर्द सिर्फ वही जानता है जो कभी बिछड़ा हो....

जख्म

gauravji   27 views   2 months ago

" जहर" जैसा भी हो जख्म पर मलते रहना

नज़र

utkrishtshukla   24 views   3 months ago

उसकी नज़र से नज़र कौन मिलाए, जिससे नज़र खुद ख़ुदा न मिलाए।

पोटली......

रश्मि वैष्णव   55 views   3 months ago

सपनों की...आशाओं की....एक पोटली जो दिल के जज्बातों की....

वो बात

neerajself   12 views   3 months ago

इन बातों में वो बात नहीं...........

सज़ा

neerajself   14 views   3 months ago

ये बात सही है कि कभी दिल में रहे हो तुम...

"ख़्वाहिश"!!!

ayushjain   13 views   3 months ago

एक ख़्वाहिश सिर्फ़ एक ख़्वाहिश ही थी वो भी पूरी ना हुई

चाँद थी वो

neerajself   21 views   3 months ago

I tried to answer of 'who was she?'this way 'chand thi wo'