SEXUAL ABUSE

FILTERS


LANGUAGE

"Are you Virgin "

pdimple   29 views   5 months ago

A poem on social crime on Titled "Rape"

एक दर्द

sonikedia12   108 views   1 year ago

उड़ना चाहती थी वो पर ना ही टूटे पत्तों की तरह ना ही सूखे पत्तों की तरह लहराना चाहती थी पर ना ही फटे दामनों की तरह ना ही चिथड़ों की तरह ।

Child abuse

kitabeshayri   191 views   11 months ago

इस कहानी में अपने अंदर का दर्द बयां करना चाहती हूँ इस कहानी में मैं अपने ज़ख्म को लिखा है I want u all to know how diffucult is girls life. How many faces she have to look on she sees the cruelest man in the world And bear all the pain silently Please read the whole story

आखिर ये दरिन्दगी कब तक

nis1985   318 views   4 months ago

मैं पूछती हूं क्या दिखता है आखिर ८ माह की बच्ची में, कुछ लोगो की सोच के हिसाब से लड़कियां छोटे-छोटे कपड़े पहनके उकसाती हैं न

सिक्स्थसेंस

nis1985   482 views   6 months ago

सोशल साइट्स पर अपनी जिंदगी के सबसे अहम हिस्से प्यार और शादी जैसे मैटर को लेकर किसी अनजान पर इतना भरोसा करना बेवकूफी है

क्या यही प्यार है

rajmati777   414 views   7 months ago

वो हमसे पर्याय का इजहार करते रहे पर हमें उन पर विश्वास नहीं था। पर फिर भी दिल को समझाया, कर लें विश्वास। दुनिया में सभी एक जैसे नहीं होते। पर हमें क्या पता जिंदगी जिनके नाम करने जा रहे हैं वो तो.............. विश्वास के लायक ही नही है।

बहुत सी अंधेरी रातों के बाद ये सवेरा आया है

dhirajjha123   43 views   1 year ago

जिस योगी के ऐंटी रोमियो दल की आप निंदा कर रहे हैं वो अगर उस वक्त उस दिल्ली में गठित होता तो शायद देश को सदी की सबसे बड़ी शर्मिंदगियों में से ये शर्मिंदगी ना झेलनी पड़ती

शोषण किसका

mmb   87 views   1 year ago

एक महिला द्वारा पुरुष का शोषण यौन शोषण पर पुरुष को खलनायक दिखाया जाता है। मेरी कहानी में पहलू दूसरा है।

घर के भेड़िये

joshimukesh1010   95 views   1 year ago

कुछ भेड़िये हमारे अपने घरों में, ऑफिस में, पड़ोस में यहीं कहीं हमारी नज़रों के आसपास होते हैं। वो बोटी नोंचते हैं। उनको पहचानना ज़रूरी है।

अनजाने नंबर

PRABHAT KUMAR   27 views   1 year ago

माना कि किसी बुराई की वज़ह नहीँ होंगे तुम , पर किसी अच्छाई की वजह तो बन ही सकते हो ~

कुलच्छनी

sidd2812   292 views   1 year ago

रमा आदतन गुस्से वाली थी, उसे गलत होता कुछ भी बर्दाश्त नहीं होता. वहीँ अपनी अल्हड़ मिजाजी की वजह से उसकी ताई उसे कुलच्छनी बुलाती थी. एक दिन जब उसने ताई के लड़के को अपनी छोटी बहन के होंठ चूमते देखा तो......

सगी

sidd2812   110 views   1 year ago

जहालत की ज़िन्दगी से वो तंग आ गयी थी। माँ हमेशा कहती थी कि तू अठरा की हो जाए तो तेरी शादी कर दूंगी, तेरे बाबूजी सीधे हैं, तेरी चाची चालाक है, तेरे चाचा बहुत अच्छे हैं; न जाने क्या-क्या समझाती रहती थी लेकिन, तीन साल पहले ही चली गयी।

Unbearable pain

Supriya Supriya   143 views   1 year ago

Hi, I have tried to express the pain of an ORDINARY INDIAN WOMAN about what she goes through when she comes across with an unpleasant touch. Please read, share and comment if it touches you.

समाज के भेड़िया

gourav11698   30 views   1 year ago

रेपिस्ट कही बहार से नहीं आता असल में रेपिस्ट हम और आपमें से ही कोई है..जो हमारे आस पास ही रहता है और तलाश करता है एक मौके की और हमें आवश्यकता है हर पल जागरूक रहने की क्योंकि भेड़ियों को एक मात्र मौका चाहिए ... एैसा ही एक समाज का भेड़िया मेरी कहानी में मिलेगा आपको... तो जागरूक रहिए..

रेपिस्ट कौन?

suryaa   113 views   1 year ago

बेटा उठ जाओ,सुबह के 9 बज रहे हैं,कब तक सोओगी-----मास्टर केशव प्रसाद ने पल्लवी को आवाज लगाते हुए कहा