RELATIONSHIP

FILTERS


LANGUAGE

​जी लूँ तुम्हारे अहसास संग

dhirajjha123   15 views   1 year ago

“क्या है कबीर ? अब आपको क्या हुआ । मान भी जाओ ना, अच्छा सुनो चलो आज हम कहीं घूम कर आते हैं । कोई अच्छी सी फिल्म देखेंगे और खाना बाहर ही खाऐंगे वो भी आपकी फेब डिश । हाँ जानती हूँ आपको मेरे और माँ के हाथ का ही।

सौतन

kumarg   168 views   1 year ago

अपने आप से लडती जरीना मानों चीख पडी " क्यूं तेरी अम्मी ने नहीं सुनाई कहानियां । " उसके जबाब ने दिल चीर दिया " नहीं अम्मी तो पैदा होते ही छोड़ गई थी , रुखसती के वक्त अब्बू ने कहाथा जा वहाँ तुझे सबकुछ मिलेगा जिसके तुने ख्वाब देखे हैं । "

अगले जन्म मोहे आपकी बहू ही किजो

Maneesha Gautam   795 views   6 months ago

जब एक सांस चढती है और दूसरी उतरती है उसमे प्राण बसे होते है ये दोनो सांसों का जोड़ा है पति पत्नी।

आखिरी रक्षा बन्धन

kavita   635 views   11 months ago

एक बहन और भाई के अटूट प्रेम और मृत्यु रूपी बिछोह के ताने बाने से बुनी एक करुण कथा..!

बहू हूँ कोई गुलाम नहीं

jyotiorrajdeep   1.68K views   5 months ago

बहू होने का अर्थ यह नहीं होता कि वह अपनी जिंदगी अपने हिसाब से न जीए, बहू होते हुए भी अपने फैसले लेने का अधिकार होना चाहिए

हम इतने भी पराये नही

kavita   2.49K views   5 months ago

विवाहोंपरांत बेटियों की मायके में उत्तरदायित्व पूर्ण भूमिका पर आधारित कथा

लौट आओ सुधी

ritumishra20   1.47K views   4 months ago

पति- पत्नि के आपसी मतभेद, मनमुटाव, व कलह के बीच पनपते सच्चे प्रेम की व्याख्या करती हैं ये कहानी "लौट आओ सुधी"

विदाई- आत्मग्लानि एक पिता की !

nehabhardwaj123   309 views   10 months ago

ये कहानी है एक लड़की साक्षी और उसके पिता के रिश्ते की, एक बेटी की भावनाओं क , और एक पिता की आत्मग्लानि भी !

चिरैया” जो मर कर भी उड़ती रही

dhirajjha123   253 views   1 year ago

भगलू ताऊ ने हुक्के का दम मारते हुए अपना हुकुम बजाया “101 क्या, पूरे 251 मिलेंगे, बस चिरैया बाई को नचवा दो । वो नाचेगी तबै मिलेंगे पैसे । बिना उसके नाचे तो चवन्नी ना मिलेगी”

एक चिट्ठी की कहानी!

rishav   60 views   1 year ago

एक कहानी जो दरवाज़े पर पड़े एक ख़त में शुरू और खत्म हुई, जिसका पता चला बारह सालों के बाद!! क्या हुआ आगे!?

एक छोटी सी कोशिश बेटी के मन की बात कहने की

soni   47 views   9 months ago

लोग कहते है कहीं कुछ छुटा तो नहीं अब उन्हें कौन समझाए कुछ नहीं सबकुछ तो छुट गया नैहर में...

​सपनों वाली शादी (बूढ़ी सी प्रेम कहानी)

dhirajjha123   35 views   1 year ago

“ये स्टेज पर लाल रंग के फूल लगाओ यार, हमारे बुढ़ऊ को उनकी हमारी बुढ़िया के लिए लाल रंग के फूल ही पसंद हैं ।” काम की व्यस्तता के बीच परिधांश ने माहौल को थोड़ा मज़ाकिया रंग देने के लिए ये बात कही ।

हाउस वाइफ का अस्तित्व

jyotiorrajdeep   1.70K views   6 months ago

हाउस वाइफ का भी अस्तित्व होता है

कितना मुश्किल है मां बनना - II

Maneesha Gautam   713 views   3 months ago

नैपी बदलेगी कि काम करेगी. जब माँ बन गयी है तो घर पे क्यो नही रहती.

कितना मुश्किल है मां बनना - I

Maneesha Gautam   1.01K views   3 months ago

हर नयी शादी में उम्मीदो की एक लंबी लिस्ट होती है,गुड न्यूज है.