RELATIONSHIP

FILTERS


LANGUAGE

मेरी वो दुनिया

gauravji   475 views   1 year ago

आज तुम मुझे इस मझधार में अकेला छोड़ कर खुद किनारे लगने की कोशिश कर रहे हो ना रवि, पर याद रखना जब तुम किनारे लगोगे ना तो इन सपनों की टूटी हुई काँच तुम्हारे पैरों में जरूर चुभेगी और तुम तब भी मुझे ही मेरे दुपट्टे से तुम्हारी जख्मों को पोछते हुए देखोगे

यही तो इश्क है भाग-७

nis1985   161 views   1 year ago

"मंदिरी और आनंद दिल मे मोह्हबत के दिये जलाये अपने-अपने घर को चल तो दिये,लेकिन दोनों के दिल और और दिमाग मे अब शायद किसी और के लिए जगह ही नही बची थी,की कुछ और भी सुनाई दे,सिवाय एक दूसरे की धड़कनों के।

अपेक्षाओं के बियाबान

nidhi510   66 views   1 year ago

मौत तो अटल सत्य है लेकिन एक प्रेम भरी तृप्त जिंदगी जी कर जाना और एक किसी के इज़हार का इंतज़ार करते हुए बिना कोई खूबसूरत याद लिए ,बिना कोई खूबसूरत याद दिए चले जाना, दोनों को एक दूसरे से जुदा करता है।

यही तो इश्क है भाग-८

nis1985   146 views   1 year ago

मंदिरी और आनंद की वो इश्क वाली नोकझोंक चल ही रही थी, हाय! उससे इश्क का रंग और भी गहरा हो रहा था दोनों के बीच

हमदर्द साथी

varmangarhwal   664 views   1 year ago

चार जनवरी, बुधवार की रात को एक बजे उम्र में पच्चीस(25) साल का क्लीन शेव चेहरे वाला स्मार्ट और हैंडसम सुदर्शन ऑफ़िस में कुर्सी पर बैठा टेबल पर ऑवर टाइम में काम करते हुए चाँदी की ईयर रिंग चैक कर रहा था.

बेटे की चाह में तड़पता मातृत्व

poojaomdhoundiyal   1.49K views   11 months ago

“ नहीं हम ये बच्चा गोद नहीं ले सकते।” “ क्यूँ ?” “ क्यूंकि मुझे एक बेटा चाहिए।” “बेटा!!” “हाँ , बेटा । इतने साल बाद किसी बच्चे के माँ बाप बने और वो भी एक लड़की के ।”

​नमन है तुम्हें

dhirajjha123   11 views   1 year ago

यहाँ एक पति है एक पत्नी है और साथ में है पति का अपनी पत्नी के लिए आदर, जिसे वो अपने शब्दों में कुछ इस तरह बांधता है ।

एक चिट्ठी उस कमज़ोर लड़की को जो अब कमज़ोर नहीं

dhirajjha123   21 views   1 year ago

कभी सोचा ही नहीं कि तुम्हारे बिना भी रहना पड़ सकता है । मगर समय है किस ओर करवट ले कौन जानता है इसीलिए चंद बातें जो तुम्हे कहना चाहता हूँ ठीक वैसे ही जब छोटे थे तब माँ घर से अकेले बाहर जाते हुए समझाती थी ।

यही तो इश्क है भाग-९

nis1985   465 views   11 months ago

मेरी आँखों का तारा, मेरा राजदुलारा है तू, मेरे बेटे इस जीवन से भी प्यारा है तू....! नाजो से पाला आँचल के तले सुलाया है तुझे, मेरी उम्मीद और इस घर का उजाला है तू....!!

सड़क छाप इश्क़

Sonu Mishra   100 views   1 year ago

इश्कबाज, ये कहानी एक ऐसे इश्कबाज की है जो एक लड़की से इश्क़ करता है लेकिन वो लड़की उस लड़के को रत्ती भर भी भाव नहीं देती।

यही तो इश्क है भाग-१०

nis1985   308 views   11 months ago

तेरे इंतजार में पलकें बिछाय बैठी हूँ, तू बस एक नजर देखे,और मैं निखर जाऊं....! ये बिंदिया,झुमका और कँगना सजाये बैठी हूँ, तू बस एक नजर देखे,और मैं निखर जाऊं....!!

रीत के ससुराल की रीत

nehabhardwaj123   1.85K views   10 months ago

ये कहानी है रीत की जिसे ससुराल में जाकर काफी कुछ नया सीखने को मिला

किस्मत से मिले हो तुम

akanskha pandey   628 views   10 months ago

कुछ अनकहे रिश्ते जो बरसो बीत गए मगर मोहब्बत कभी नहीं बदलती। यही हमारी कहानी में देखेंगे आप।

तेरा साथ

poojaomdhoundiyal   249 views   1 year ago

एक लड़की का जीवन दो परिवारों की समझ और व्यवहार पर निर्भर करता है-एक माता पिता और दूसरा पति। माता पिता अपनी बेटी को शायद इसी लिए कोसते हैं कि उनको उसके पैदा होने के साथ ही उसके पति और ससुराल कैसा होगा का डर सताने लग जाता है।

निष्ठुर

kumarg   62 views   1 year ago

मां के संबंध में अनेको किस्से कहानियां गीत गजल आदि लिखे गये हैं लेकिन पिता बहुत अंडररेटेड जीव है। वो अंदर से नरम होकर लालन पालन करता है वहीं बाहर से कठोर रहकर जमाने से रक्षा करता है। हर कोई बाहरी आवरण ही देखता है और वो कहता है उसे निष्ठुर