RELATIONSHIP

FILTERS


LANGUAGE

છેલ્લી ઘડીએ

ashutosh   28 views   1 year ago

સાક્ષી ખરેખર આજે એક બુઢાપાની ઊંમરે પાંગરી રહેલા નવા પ્રેમની સાક્ષી બનવાના પ્રયત્નો કરી રહી હતી અને હું તેમાં આડખીલીરૂપ બન્યો હતો. હવે? હવે કરવું શું?

भाग्यलेख

Manju Singh   1.73K views   1 year ago

पति पत्नी के रिश्ते से बढकर शायद कोई रिश्ता नहीं होता दुनिया में लेकिन ऐसा सिर्फ औरत ही क्यों सोचती है ? क्या य्ह सिर्फ औरतों का ही फर्ज है कि वे हर हाल में रिश्ता निभाएँ।शायद है तो नहीं लेकिन वह अक्सर रिश्ता निभा ही जाती हैं ।

पिंजरा जिसका दरवाज़ा खुला था

hema   57 views   2 years ago

परितोष के बैचैन दिल पर प्यार भरा हाथ रखने की कोशिश में वो परितोष की शर्ट की बायीं जेब पे जा बैठी । परितोष की आँख खुल गयी उसने बन्दिनी को अपने दोनों हाथों में प्यार से लिया और चूम लिया । प्यार से उलाहना देते हुए कहा ‘क्या हो गया था तुम्हें? दोबारा ऐसा मत करना । कुछ खाओगी या अब सुबह ही खाना होगा ‘?

सबसे बड़ा तीर्थ : माता-पिता का घर

harish999   20 views   2 years ago

अगर भगवान न होते तो तब भी हम इस धरती पर आते, क्योंकि हमारे माता-पिता ने हमको जन्म देने का फैसला कर दिया था.

उधार की जिंदगी

rajmati777   753 views   1 year ago

एक ऐसी महिला की कहानी जो अपने अस्तित्व की रक्षा के लिए संघर्षरत है और अपने भविष्य को लेकर असुरक्षित महसूस करती है।

82 kg एक सच्ची प्रेम कहानी (1)

kavita   964 views   1 year ago

बचपन का अल्हड़ प्रेम जो ,परिस्थितियों के भंवर में उलझ कर भी टूट न सका

सौतन

kumarg   182 views   2 years ago

अपने आप से लडती जरीना मानों चीख पडी " क्यूं तेरी अम्मी ने नहीं सुनाई कहानियां । " उसके जबाब ने दिल चीर दिया " नहीं अम्मी तो पैदा होते ही छोड़ गई थी , रुखसती के वक्त अब्बू ने कहाथा जा वहाँ तुझे सबकुछ मिलेगा जिसके तुने ख्वाब देखे हैं । "

'वरना लक्ष्मी रूठ जाएंगी..'

kavita   380 views   2 years ago

एक बहू के मन की बात...हर स्त्री के अंतर्मन को छुएगी

कैसे मुझे तुम मिल गए

Pallavi Vinod   743 views   1 year ago

पहला प्रेम जीवन में आलौकिक सुख की अनुभूति लाता है,किसी की मुस्कान दिल में तरंगें पैदा कर देती है,किसी की आंखों के सम्मोहन में हम इस कदर डूब जाते हैं कि फिर उसे भूल पाना बहुत मुश्किल हो जाता है।

हैप्पी वैलेंटाइन डे

abhidha   73 views   2 years ago

गरीबों के लिए मोहब्बत इतनी आसान नहीं होती।आज कल तो प्यार करने से पहले लोग स्टेटस मैच करते हैं।

बहू हूँ कोई गुलाम नहीं

jyotiorrajdeep   1.68K views   1 year ago

बहू होने का अर्थ यह नहीं होता कि वह अपनी जिंदगी अपने हिसाब से न जीए, बहू होते हुए भी अपने फैसले लेने का अधिकार होना चाहिए

उसकी और उसके उसकी बातचीत

dhirajjha123   17 views   2 years ago

“जानते को कल मैंने एक सपना देखा” “कुछ उत्पतंग ही देखा होगा” “हाँ हाँ सरे सही सपने तो तुम्हे ही आते हैं ना, जाओ नहीं बताती हुंह”

एक चिट्ठी उस कमज़ोर लड़की को जो अब कमज़ोर नहीं

dhirajjha123   22 views   2 years ago

कभी सोचा ही नहीं कि तुम्हारे बिना भी रहना पड़ सकता है । मगर समय है किस ओर करवट ले कौन जानता है इसीलिए चंद बातें जो तुम्हे कहना चाहता हूँ ठीक वैसे ही जब छोटे थे तब माँ घर से अकेले बाहर जाते हुए समझाती थी ।

रकीब

kumarg   57 views   2 years ago

नसीब से बस उतनी ही मोहब्बत मिलती है जितनी रकीब छोड़ जाता है। जब मोहब्बत हो ही जाए तो कभी इतनी मोहब्बत मत करना की रकीबों के हाथ कुछ न लगे

एक चिट्ठी की कहानी!

rishav   76 views   2 years ago

एक कहानी जो दरवाज़े पर पड़े एक ख़त में शुरू और खत्म हुई, जिसका पता चला बारह सालों के बाद!! क्या हुआ आगे!?