41
Share




@dawriter

क्या है प्यार?

1 165       

वैलेंटाइन डे जिसे की प्यार का इज़हार करने, अपने अपनों के साथ प्यार के कुछ पल बिताने या फिर प्यार को महसूस करने का दिन माना जाने लगा है आजकल। पर क्या प्यार किसी एक दिन का मोहताज है? क्या प्यार किसी जज़्बे का मोहताज़ है? कितने ही दिन कितने ही पल आते हैं इन कुछ ख़ास मानव निर्मित दिनों के अलावा भी जब दिल के अरमान उमड़ते हैं। जब दिल में प्यार की नैया हिलोरे खाती है। कभी ये प्यार आपको जन्नत की सैर करवाता है तो कभी दिन में तारों के दर्शन। दिन, हफ्ता, महीना या साल कुछ भी हो कभी भी हो, हर दिल का अरमान और मंजिल ये प्यार ही है।और हर किसी का प्यार भी अलग अलग है। पर ये प्यार है क्या? कोई जानता है क्या इसे?

प्यार !!! जिससे पूछो उसकी इस प्यार को लेकर एक अपनी ही अलग परिभाषा होगी। अपनी एक अलग ही कहानी बयां करता है हर कोई इस प्यार को लेकर। किसी के प्यार ने उसकी जिंदगी सवांरी तो किसी ने खुद को इस प्यार में बर्बाद कर दिया। न जाने कितनी सदियों से यह प्यार ऐसे ही यउ ही चलता आ रहा है। कभी यह बनाता है तो कभी बिगाड़ता, पर लोगो का इसके प्रति आकर्षण कम नहीं हुआ।

तभी तो मेरे मन में भी एक सवाल आया की आखिर यह प्यार है क्या? क्या है यह प्यार जिसके बिना हर कोई अपने को अधूरा सा समझता है? और इसी सोच में कुछ लिख डाला।

आज फिर एक बार प्यार को जानने का मन हुआ

आज फिर प्यार का अर्थ समझने का मन हुआ

क्या है प्यार? क्या है प्यार? क्या है प्यार?

क्या प्यार है वो जो ममता माँ बच्चों पर लुटाती है

या वो जो पिता के लाड़ में खिलखिलाती है

आज मिला फिर ढेर सारा ममता-लाड़ प्यार

पर! फिर भी ना मन तृप्त हुआ

क्या है प्यार? क्या है प्यार? क्या है प्यार?

क्या प्यार है वो मस्ती जो भाई बहन संग होती है

या वो मौज जो दोस्तों के संग फब्ती है

आज की फिर ढेर सारी मौज-मस्ती

पर! फिर भी ना मन तृप्त हुआ

क्या है प्यार? क्या है प्यार? क्या है प्यार?

क्या प्यार है वो जो प्रेमी युगल करते है

या वो जो जीवन साथी संग कसमें हैं

आज फिर डाली बाहों में बाहें

पर! फिर भी ना मन तृप्त हुआ

क्या है प्यार? क्या है प्यार? क्या है प्यार?

क्या प्यार है वो जो सिपाही देश से करते हैं

या है वो जो भक्त ईश्वर से करते हैं

आज जगा के देख ली भक्ति फिर

पर! फिर भी ना मन तृप्त हुआ

क्या है प्यार? क्या है प्यार? क्या है प्यार?

मेरे ख़याल से वो है प्यार

जिस में न हो कोई द्वेष-विकार

देह समर्पित हो जिस में लेकर पूरा सेवा-भाव

क्या बात लगी मेरी खरी

नहीं तो बतलाओ मुझको यार

क्या है प्यार? क्या है प्यार? क्या है प्यार?

Image Source: lifehack



Vote Add to library

COMMENT