147
Share




@dawriter

काश! मेरा भी एक भाई होता...

3 287       

मैं भी रक्षाबंधन पर सबसे अच्छी राखी लाती, राखी के लिए नए कपड़े भी लाती, मेरा भी राखी का त्यौहार सुना ना जाता।

 काश! मेरा भी एक भाई होता..

मुझे भी कोई परेशान करता,कभी कपड़े तो कभी मेरे बाल खिंचता, कभी मेरी किताबें छुपाता तो कभी मेरी चीजें छुपा कर मुझे रुलाता,कभी मेरी चॉकलेट,आइसक्रीम खा जाता तो कभी मेरी थाली में रखा लडू, कभी मेरे    खिलौने तोड़ता, तो कभी मेरे रंगो से खेलता,

काश! मेरा भी एक भाई होता.. 

जब वो मेरी बनाई रंगोली बिगाड़ता,जब वो मेरी चीजें तोड़ता माँ के डांट से उसको बचाती उसकी सारी गलतियां छुपाती, कभी पापा से उसकी शिकायत करती जब वो रोता उसको चुप कराती। सबसे प्यारा और न्यारा होता। 

काश! मेरा भी एक भाई होता..

स्कूल- कॉलेज वो अपनी बाइक में छोड़ने जाता। रोज मुझसे मिन्नते करवाता और रिश्वत भी ले जाता। मुझ पर अपना रोब जमाता,मनचले लड़को से मुझे बचाता। रात को उठाकर मैग्गी बनवाता,सारे काम वो मुझसे करवाता, कभी रुलाता कभी हँसाता, मुझसे तो वो झगड़ा करता पर किसी ओर को मुझे हाथ ना लगाने देता। मेरे लिए वो सबसे लड़ जाता मेरी परवाह जताता 

काश! मेरा भी एक भाई होता..

किसी लडक़ी का नाम लेके मैं भी उसको रोज छेड़ती, रात में छत पर बैठ कर हम बाते करते,मैं उसको वो मुझको अपनी सारे बातें बताता,अपने जन्मदिन पर भाव खाता, मेरे जन्मदिन पर मुझे परेशान करके मेरे लिए उपहार लाता। भाई के रुप में एक दोस्त मिल जाता।

काश! मेरा भी एक भाई होता..

उसके लिए सबसे बेस्ट कपड़े चीजे लाती। हैंडसम स्मार्ट लगने पर भी लल्लू कहती। सक्रान्त,भाईदूज, राखी, होली दीवाली पर उसके साथ तस्वीरे खिंचवाती। व्हाट्सएप, फेसबुक पर टेग करती। कोई त्यौहार पर्व ना मेरा उसके बिन सुना जाता। 

काश! मेरा भी एक भाई होता..

मेरी शादी की उसको जल्दी होती मेरा कमरा जो उसको मिल जाता। धूमधाम से मेरी शादी करवाता, विदाई के समय मुझे चिढ़ाता खुद छुपकर आंसू बहाता।उसकी शादी में मैं इतराती। खूब सारा नेग निकलवाती। भाभी को उसकी सारी कमियां बताती। कोई मुझे भी बुआ  बुलाता। मेरे बच्चों को भी एक मामा मिल जाता। चाहे छोटा या बड़ा। काश! मेरा भी एक भाई होता.. 

काश! मेरा भी एक भाई होता।।

Image Source: lifealth



Vote Add to library

COMMENT