RELATIONSHIP

FILTERS


LANGUAGE

एकाधिकार

kumarg   871 views   1 week ago

नौकरीशुदा महिमा शादीशुदा भी थी।

हथियार

Sharma Divya   1.49K views   1 week ago

अपनी दोस्ती की हद्द को लांघते शेखर को शिखा ने सिखाया सबक

आप किसमें जाऐंगी, इंडियन में या वेस्टर्न में ( हास्य व्यंग्य )

Pragati Tripathi   768 views   1 week ago

अशोक बुआजी का लाडला था, बचपन में वो जब भी आती तो अशोक के लिए उसकी पसंद की चीज बना कर जरूर लाती और अशोक उसे बड़े चाव से खाता, बुआजी के हाथ की बनाई गुझिया पर तो जान देता था।

कहानी का शीर्षक - डर

varmangarhwal   1.27K views   2 weeks ago

सिमरन और विकास दोनों एक-दूसरे आँसू पोंछते हुए पार्क से बाहर आते हैं और सिमरन बार-बार पलट कर विकास को देखते हुए आँखों में आँसू लिये बस स्टॉप की तरफ चली जाती हैं। विकास वहीं खड़ा रहकर नम आँखों से उसे जाते हुए देख रहा हैं।

काश! मेरा भी एक भाई होता...

Kalpana Jain   287 views   1 month ago

भाई-बहन का रिश्ता एक अटूट रिश्ता होता है। बहुत किस्मत वाले होते हैं वो जिन्हें ये रिश्ता मिलता हैं।

मै तुझ में जिन्दा हूँ

uma   776 views   1 month ago

❤️एक धड़कते दिल की कहानी....💖 प्यार कभी मरता नहीं💖

अलगाव का दर्द

Pallavi Vinod   756 views   1 month ago

कभी जिससे बहुत प्यार किया जिसके लिए सब कुछ छोड़ दिया अगर वही जीवन के सफर में अकेला छोड़ दे तो कोई कैसे जिये ।

प्रेमालाप

mmb   906 views   2 months ago

प्रेम शादी के बाद गाड़ा होता जाता है

पुनर्जीवन

Pallavi Vinod   449 views   3 months ago

18 साल तक वैधव्य का दर्द सहने के बाद जीवन को पुनः जीने का सफर है पुनर्जीवन।

गुलामी नही सम्मान है ये प्यार

Mona Kapoor   1.02K views   3 months ago

आखिर क्यों प्यार को गुलामी का नाम दिया जाता है

मेरे हिस्से का आसमान

Manju Singh   1.01K views   4 months ago

पुरुष मनमानी करे तो स्त्री के लिये दुख सहते रहने के अतिरिक्त कोई चारा नहीं है लेकिन सारा जीवन दुख झेल कर अंत में क्या मिला ------पढ़िए लीक से एक नई सोच की कहानी ।

बेटे का दर्द

Pallavi Vinod   1.77K views   4 months ago

अक्सर हम शादी के बाद बेटियों के जीवन मे आने वाले परिवर्तन और तकलीफ की बाद करते हैं,लेकिन बेटे के जीवन के बदलाव से मुख मोड़ लेते हैं।

मुक्ति

Sharma Divya   1.21K views   4 months ago

संपत्ति के लिए इंसान अपने सारे रिश्तों को भूल कर इतना स्वार्थी बन जाता है कि उसे एक औरत का दुख भी नहीं दिखता। उसके त्याग प्यार को पल में भूला देता है।

बाँझ

mrinal   1.61K views   4 months ago

पर अब कोई मेरी कनिया को बाँझ तो नहीं कहेगा न!

जूड़े का गुलाब

kavita   1.34K views   4 months ago

प्रेम के धागों से बुनी गयी ..एक रूमानी कहानी