RELATIONSHIP

FILTERS


LANGUAGE

प्रतिस्थापन

varmangarhwal   3.40K views   1 year ago

चिराग ने चाय पीते हुए शाज़िया के घर आने से लेकर शाज़िया को भगाने तक का सारा किस्सा निकिता को बताकर कहा—“फालतू लोग ! पता नहीं कहाँ–कहाँ से आ जाते हैं.” इस रचना में कुछ शब्द आपको असहज महसूस कर सकते हैं

हम इतने भी पराये नही

kavita   2.55K views   1 year ago

विवाहोंपरांत बेटियों की मायके में उत्तरदायित्व पूर्ण भूमिका पर आधारित कथा

मैं जैसी हूँ मुझे वैसा रहने दो

poojaomdhoundiyal   2.54K views   1 year ago

वर्तिका जब नयी नवेली दुल्हन बन अपने नए घर आई तो हर नयी दुल्हन की तरह उसके भी कुछ अरमान थे। शुरू शुरु के कुछ दिन तो हँसी खुशी से बीते। नयी गृहस्थी ऐसी लग रही थी मानो उसे सब मिल गया हो। पर धीरे धीरे जैसे जैसे गृहस्थी की गाड़ी आगे बड़ी तो वास्तविकता की जमीन पर पैर पड़ा।

कुलटा

Sharma Divya   2.39K views   1 year ago

विधवा भाभी के लिए साथ खड़ी ननद के रिश्ते की कहानी।

माँ की पराई बेटी !!

nehabhardwaj123   2.34K views   1 year ago

ये कहानी है सुजाता जी की जिनकी बेटी ने आपमे जीवन के कड़वे अनुभवों से सीख लेते हुए अपनी माँ को एक अच्छी सास बनने के लिए प्रेरित किया

खंडहर

sunita   2.33K views   1 year ago

एक बार मै बुखार में तड़प रहा था, वो शहर से दूर अपने किसी करीब की शादी में शामिल होने गयी थी मै घर पर अकेले था मां पहले ही मुझे छोड़ गांव में चली गयी थी। मेरी खांसी रुकने का नाम न लेती थी लगता मानो जान ही जायेगी पर उसे मेरी कोई परवाह न थी। Read more in the story.

बहनों की दखलंदाजी कितनी सही?

monicabhardwaj   2.16K views   1 year ago

हर रिश्ते की एक सीमा होती है। उसे बरकरार रखने से ही रिश्तों में मजबूती रहती है नहीं तो वह बोझ लगने लगते हैं। हर किसी के अपने अलग दायित्व होते हैं जिन्हे उनको ही पूरा करने देना बेहतर होता है। ये कहानी भी ऎसे ही रिश्तों को दर्शाती है।

रूठे रूठे पिया..!

kavita   2.05K views   1 year ago

पति पत्नी की लड़ाई और फिर एक दूसरे को मना लेने की कवायद और आपसी रिश्तों की समझ से जुड़ी दिलचस्प कहानी

नियति

kavita   1.88K views   1 year ago

प्रेम में लंबी प्रतीक्षा के बाद , बंजर धरती पर प्रेम सिंचन की अद्भुत कथा..!

ठंडी और गर्म औरत

Rajeev Pundir   1.88K views   1 year ago

स्त्री हो या पुरुष, उम्र के हिसाब से शारीरिक परिपक्वता के साथ मानसिक रूप से परिपक्व होना भी बहुत ज़रूरी है अन्यथा जीवन में बहुत से अंतर और बाह्य विरोधों का सामना करना पड़ सकता है I ये कहानी भी एक ऐसी ही लड़की की है जो अपने पति की उससे क्या अपेक्षाएं हैं, नहीं जान पाई और उसके तिरस्कार का कारण बन गयी I

झूठी हैं दीवारें

Manju Singh   1.86K views   1 year ago

कभी कभी समाज की घटनाएं हमें आईना दिखा देती हैं। अपने आस पास की घटनाओं से सीख लेने वाली कहानी पढ़ें

रीत के ससुराल की रीत

nehabhardwaj123   1.85K views   1 year ago

ये कहानी है रीत की जिसे ससुराल में जाकर काफी कुछ नया सीखने को मिला

माँ की ममता बदल गई...

rita1234   1.80K views   1 year ago

माँ माँ होती है मगर वही माँ जब एक सास बनती है जो कि माँ का ही रूप होता है तब उसकी भावनाये क्यूँ बदल जाती है समझ में नहीं आता है।।

बेटे का दर्द

Pallavi Vinod   1.78K views   10 months ago

अक्सर हम शादी के बाद बेटियों के जीवन मे आने वाले परिवर्तन और तकलीफ की बाद करते हैं,लेकिन बेटे के जीवन के बदलाव से मुख मोड़ लेते हैं।

भाग्यलेख

Manju Singh   1.73K views   11 months ago

पति पत्नी के रिश्ते से बढकर शायद कोई रिश्ता नहीं होता दुनिया में लेकिन ऐसा सिर्फ औरत ही क्यों सोचती है ? क्या य्ह सिर्फ औरतों का ही फर्ज है कि वे हर हाल में रिश्ता निभाएँ।शायद है तो नहीं लेकिन वह अक्सर रिश्ता निभा ही जाती हैं ।