nis1985
Verified Profile

This is a verified account of top writer.

0

Most recent posts

एग्जाम स्ट्रेस

निशा रावल फ्रीलांस राइटर,पोएट,एन्ड ब्लॉगर छत्तीसगढ़

आखिर ये दरिन्दगी कब तक

मैं पूछती हूं क्या दिखता है आखिर ८ माह की बच्ची में, कुछ लोगो की सोच के हिसाब से लड़कियां छोटे-छोटे कपड़े पहनके उकसाती हैं न

मासिकधर्म या कुरीति

शर्म की वजह से ही आज ग्रमीण या सामान्य महिलायें भी न तो इस विषय पर खुलकर बोल पाती और जागरूकता की कमी की वजह से ही उन तक मासिकधर्म से सम्बंधित कई महत्त्वपूर्ण जानकारी नहीं पहुँच पाती और न ही वो【 पेड 】इस्तेमाल की कोई जानकारी रखती हैं

इश्क और आँसू

सारे एहसास एक ही झटके में खत्म कर डाले उसने, तब भी वो आज चैन से नहीं जी पा रहा है......!!!!

सिक्स्थसेंस

सोशल साइट्स पर अपनी जिंदगी के सबसे अहम हिस्से प्यार और शादी जैसे मैटर को लेकर किसी अनजान पर इतना भरोसा करना बेवकूफी है

कण्डोमविज्ञापन बैन

कंडोम के विज्ञापन पर बैन बहुत ही बढ़िया खबर है, रात के 10बजे के बाद दिखाया जाएगा और जरूरी भी है

#सानिध्य

निशा रावल फ्रीलांस राइटर,पोएट एन्ड ब्लॉगर बिलासपुर, छत्तीसगढ़

यही तो इश्क है भाग-१०

तेरे इंतजार में पलकें बिछाय बैठी हूँ, तू बस एक नजर देखे,और मैं निखर जाऊं....! ये बिंदिया,झुमका और कँगना सजाये बैठी हूँ, तू बस एक नजर देखे,और मैं निखर जाऊं....!!

यही तो इश्क है भाग-९

मेरी आँखों का तारा, मेरा राजदुलारा है तू, मेरे बेटे इस जीवन से भी प्यारा है तू....! नाजो से पाला आँचल के तले सुलाया है तुझे, मेरी उम्मीद और इस घर का उजाला है तू....!!

वो दिसम्बर की ठिठुरती शाम

शब्द जैस सिल से गये एहसासो की तपिश है बरकरार

Some info about nis1985

EDIT PROFILE
E-mail
FullName
PHONE
BIRTHDAY
GENDER
INTERESTED IN
ABOUT ME