LIFE

FILTERS


LANGUAGE

मुक्ति

Avinash Vyas   212 views   1 year ago

एक ऐसे अनाथ बच्चे की कहानी जिसे बाल श्रमिक के रूप में जूता फैक्ट्री से मुक्त करवाया गया और छोड़ दिया गया भूख से मरने के लिये।

WOMEN'S ARE NOT TO PLEASE YOU.

beingsheblog   8 views   1 year ago

A women, is not here to please everyone, by her look, by her body, she is also a human, and people need to understand that. @beingsheblog

Living under the skin

Shrey Sharma   2 views   1 year ago

Emotions running wild when everything seems to fall apart

दादी की यादें .....!

nehabhardwaj123   146 views   1 year ago

एक यादों में खोई सी राशि जो बरबस ही अपनी दादी को याद करते हुए उनकी ही दुनिया मे खो जाती है !

YOUR LIFE IS MEDIOCRE

prosperity   19 views   1 year ago

At some point or the other, we all think at least once in our life that our life is mediocre and everyone else is living a better life than that of ours. Is it true? This write-up speaks about it.

आजादी ......!

nehabhardwaj123   307 views   1 year ago

ये कहानी है एक नन्हे लड़के छोटू की जो बड़े सपने लेकर गांव से शहर आता है। लेकिन शहर जाने के बाद एक वर्ष संघर्ष के बाद फिर से आजादी पाने की।

MY NAME IS SHANTI AND I AM AN ANGRY GODDESS

poojaomdhoundiyal   63 views   1 year ago

THIS STORY IS ABOUT A LADY, WHO FIGHT FOR HERSELF, FOR HER DIGNITY, FOR HER IDENTITY. WHO GIVE A BIG FIGHTS TO ALREADY ESTABLISHED NOTIONS IN A SOCIETY. HER STORY TELLS SOCIETY, ITS NOT NAME THAT DOES MATTERS ITS ACTS THAT HAS THE MEANING AND IDENTITY.

अधूरे रिश्ते

chandrasingh   133 views   1 year ago

“आँखों में जल रहा है क्यों…? बुझता नहीं धुंआ..! उठता तो घटा सा है बरसता नहीं धुंआ”

शेषनाग

sunilakash   127 views   1 year ago

"नई रोशनी" दैनिक की प्रेस में अखबार की स्थापना से लेकर आज तक, पचास वर्षों में ऐसा कभी नहीं हुआ था।

LIFE - your journey

lubna   262 views   1 year ago

An article on the meaning of life where in your trials and tribulations are just a part of it.

क्रियाकर्म

kumarg   89 views   1 year ago

एकमुश्त इतनी मौतें प्रशासन की परेशानी की वजह न बन जाए इसलिए रातों रात उन्हें बोरी में भर प्रशासन ने स्टीमर से दूसरी तरफ चोरगांव में फिंकवा दिया और वहाँ के मुखिया को कुछ पैसे देते हुए कहा इन लाशों को चुपचाप ठिकाने लगा दो और मुँह खोला तो गाँव में कोई न बचेगा ।

Untold Story of Indian Soldier

Vaishnavi Vaishnav   49 views   1 year ago

मिशन desert strom start now!.....

बहू या अलादीन का चिराग

harish999   62 views   1 year ago

पति को भगवान मानने वाले समाज में आखिर कब बहू-बेटियों को इस मानसिक, शारीरिक उत्पीडऩ से मुक्ति मिलेगी, यह सवाल हर समय हमको परेशान रखता है. आखिर ऐसा क्यों होता है और कब तक होता रहेगा?

मेरा‌ ‌वजूद है भी ‌या ‌नहीं????

Anonymous
  197 views   1 year ago

वजूद के सवालों में घिरी जिन्दगी....

बरगद

aparajita   189 views   1 year ago

आसमान छूना भी उतना ही आवश्यक है जितना की जमीन से जुड़े रहना.. बस यही प्रेरणा और सन्देश दे रही है कहानी !