0
Share




@dawriter

होली के रंग

0 0       

हरा,पीला या लाल हो
अबीर हो गुलाल हो
मस्ती भरे रंग हो
खुशियों भरी चाल हो
खूब खेलो होली मिलकर
दिल मे ना कोई मलाल हो
भीगी हुई गोपी हो
रंग भरे गाल हो
बस खुशियां ही खुशियां हो
ना मन मे कोई सवाल हो
नाचे गायें धूम मचायें
बस चारो ओर धमाल हो
पकवानो की खुशबू हो
ऐसा होली का कमाल हो
जात ना पूछे,धर्म ना माने
रंग कोई मजहब ना जाने
बस गीतो की सरगम हो
और ढोलक की ताल हो
भंग ना डाले कोई रंग मे
ना ऐसा कोई बवाल हो



Vote Add to library

COMMENT