8
Share




@dawriter

अब वो कभी वापस नहीं आयेगा.

0 1.00K       

किसे मैं सुबह- सुबह उठाऊगीं कि बेटा स्कूल का टाईम हो रहा है, उठ जा, किसे देख कर इस घर की दीवारे चहक उंठेगी?

उस दिन भी तो कहा था उसने ममा सोने दो न

बेटा मन तो मेरा भी नहीं करता इतनी ठंड में सुबह-सुबह तुझे उठाने का स्कूल भेजने का पर क्या करूँ जाना तो होगा,..और फिर फ्यूचर में भी बेटा ठंड हो या गर्मी सुबह आलर्म के साथ सारे काम चालू हो ही जाने है.

माँ मैं अभी केवल 4 क्लास में ही हूँ.

पर बेटा बडा़ तो होगा न एक दिन, अब कौन बड़ा होगा मेरे लिए तेरी वो किक्रेट की किट,गिटार, तेरी स्टोरी बुक सब तुम्हारा इतंजार कर रही है बेटा एक बार के लिए बस आ जाओ, फिर कभी न भेजूँगी तुम्हें स्कूल.

सारे कहते है तुम ऊपर वाले के साथ खेल रहे हो, ऊपर वाला जो करता है अच्छा करता है। भगवान को तुम्हारी जरुरत ज्यादा थी, इसलिए उन्होंने अपने पास बुला लिया। पर मैं, तुम्हारी माँ, क्या करूँ? मैं तो जी ही तुम्हारे लिए थी, अब क्या करु मैं? बस अब तुम सपनों में आते हो, तो लगता है कि कभी मैं आँखे खोलू ही नहीं, सपनों में तुम कहते हो

"माँ आपको अपने आप को सम्हालना होगा ...Be Strong पापा तो वैसे ही हार्ट के पेसेंट है पर आप मेरी हीरो मम्मा हो, सलमान खान जैसी, पता है आज सब लोग हमारे लिए कैंडल जलाएंगे पर कोशिश किजिए कि आगे ऐसा न करना पडे़, बस के पीछे लिखा था - IF YOU SEE RASH DRIVING.. PLEASE CALL.........लेकिन आज तक किसी ने फ़ोन लगाया ही नहीं था, अब आप ऐसी किसी बस को तेज़ चले तो जिम्मेदारी से फ़ोन जरूर लगाएं, पुलिस वाले अंकल भी चालान काटने में बिजी रहते थे, उन्होंने कभी हमारी बस की सुपर स्पीड़ देखी ही नहीं। R.T.O. वाले अंकल भी अब पैसे लेकर बस को पास मत करियेगा, हो सकता हमारे साथ अगली बार आपका बच्चा भी हो, क्या किसी ने कभी बस में, वैन में ठूंस कर रखे गए बच्चों को कभी नहीं देखा? हम बच्चे वोट नहीं देते न इसलिए हमारी सुरक्षा की, स्वास्थ्य की कोई चिंता नहीं की जाती।

स्कूल को तो केवल अपने अपनी मोटी फीस से मतलब होता है। लेकिन हमेशा फोन पर चिपके हुए, अजीब सी गाली-गलोच करते, तेज़ स्पीड में कैब को दौड़ाते,टेप पर असभ्य गाने सुनते हुए और लगभग गुंडे-मवालियों जैसे हिंसक दिखने वाले स्कूल कैब के ड्राइवर / कंडक्टर को किसी भी अभिभावक ने क्यो नहीं देखा। आप सभी हमेशा यातायात के नियमो का पालन करना ।......

दीदी आप से हमेशा लड़ती थी न कि आप मुझे ज्यादा प्यार करते हो पर मम्मी मैं आप को छोड़कर चला गया, मैं आप का अच्छा बेटा नहीं,पर यदि कोई दूसरे जन्म की बात होती है तो जरूर मिलना मम्मा बहुत कुछ बाकी रह गया। मैं पापा की तरह ऑफिस जाना चाहता था, आपको के लिए खाना बनाना चाहता था"

काश मैंने न भेजा होता अपने बेटे को स्कूल, काश डाईवर राँग साईड़ न चला रहा होता, काश मेरा बेटा वापस आ जाता जो अब कभी वापस नहीं आयेगा.



Vote Add to library

COMMENT