LIFE

FILTERS


LANGUAGE

रूहानी मोहब्बत

kavita   1.29K views   1 week ago

प्यार के एहसास और त्याग के विचार के बीच मे फंसी एक युवती की कहानी

क्या आपके घर में भी कोई सौम्या है...???

rita1234   1.25K views   1 week ago

हमारे समाज में हम अपनी बेटियों को चाहें कितना भी पढ़ा लें हमारी बेटिया चाहें कितनी भी गुणी और सुसंस्कृत हों उनकी शादी देखते समय हम खुद को बहुत कम समझने लगते है...यह एक बहुत बड़ी विडंबना है जो आज भी देश के कई भागों में विशेष रूप से मध्यम वर्गीय समाज में प्रचलित है।

वो तेरह दिन

kavita   1.62K views   2 weeks ago

पत्नी की असामयिक मृत्यु के बाद, एक पति के विरह और ग्लानि का विवरण

चिट्ठी - दादाजी के नाम

abhi92dutta   628 views   2 weeks ago

यह चिट्ठी 2016 मैं अपने दादाजी के जन्मदिवस पर उनके याद में लिखा था । एक दिन में लिखने के कारण इसमें वर्तनी सम्बंधित काफी अशुद्धियाँ है । लेकिन मैं उन अशुद्धियाँ नहीं हटाना चाहता हूँ । मेरे लिए यह चिट्ठी कोई रचना नही थी , यह मेरे जज्बात है । और जज्बातों में कोई सुधार की आवश्यकता नहीं होती है

सुकून की तलाश

Kavita Nagar   853 views   4 weeks ago

कैसे पकंज को अपनों से अलग होते ही संसार की वास्तविकता समझ आई, और अपनी भूल का एहसास हुआ।

कमाई

sunita   1.35K views   4 weeks ago

रवीना बेबसी रोने लगी और कर भी क्या सकती थी उस घडी को कोसने लगी जब उसने ब्याज पर रकम ली अपनी पड़ोसन के कहने पर। शराबी पति चारों तरफ करजे में डूबा था अब वो भी उसी में फंस गयी। सोचा था इन पैसों गाड़ी की किस्त चुका देंगे फिर जो आमदनी होगी उससे ब्याज देते रहेंगे।

ममता की जीत

Manju Singh   968 views   4 weeks ago

शादी के दस साल बाद मेरी बेटी माँ बनी और उस वक्त उसे भगवान ने बस बचा ही लिया। बच्चे के भाग्य से जीवन का वरदान पाया उसने।

इन प्रतिकूल हवाओं में

sunilakash   23 views   1 month ago

आजकल के दौर में सच्चाई के साथ जीवन जी पाना कठिन हो गया है।

ये कैसी मानसिकता

rajmati2000   933 views   1 month ago

आज मेरी भांजी का मेडिकल में चयन हो गया। सभी के लिए बहुत बड़ी खुशखबरी थी। अपने नाना के सपनों को साकार करने जा रही थी।

उठती उंगलियाँ

rajesh   1.12K views   1 month ago

तुम्हारी विवेचना का तो यह अर्थ हुआ कि लड़कियां सुसराल न जाकर पितागृह में ही अपने कर्तव्य को निभाती रहे।" इसबार उसका बहनोई अनिरुद्ध ढाल बनकर आगे आए।

खून का रंग लाल होता है, नीला नही.

Maneesha Gautam   469 views   1 month ago

अंधिकाशतय विज्ञापन में पैड की गुणवत्ता और क्षमता के प्रदर्शन के लिए नीले रंग के लिक्विड का इस्तेमाल किया गया. कई सवाल दिमाग में एक साथ आये कि नीले रंग का क्या मतलब है ? खून दिखाने के लिए नीला रंग क्यों? खून का रंग लाल होता है ,नीला नही.

अब वो कभी वापस नहीं आयेगा.

Maneesha Gautam   1.00K views   1 month ago

बस के पीछे लिखा था - IF YOU SEE RASH DRIVING.. PLEASE CALL.........लेकिन आज तक किसी ने फ़ोन लगाया ही नहीं था

बड़ी तकलीफ होती है

Nidhi Bansal   42 views   1 month ago

माँ के आँचल की छाँव बमुश्किल नसीब होती है एक माँ ही तो है जो दिल के करीब होती है

सिर्फ तुम

rajmati777   806 views   1 month ago

आज एक कार्यक्रम में शर्मा जी से मुलाकात हुई। उनके व्यक्तित्व को देख मैं बहुत अभिभूत हो गई। पर जब अनायास ही उनके घर जाना हुआ, और जो देखा तो दिमाग विचलित हो उठा।

बहू की उड़ान

jyotiorrajdeep   1.55K views   1 month ago

बहू बन कर केवल घर की जिम्मेदारी तक सिमट कर नहीं रहना चाहिए बल्कि अपनी पहचान बनानी चाहिए।