INSPIRATIONAL

FILTERS


LANGUAGE

श श श... सो रहा है देश मेरा

abhidha   79 views   1 year ago

अब लिखने वाले की जात मत पूछना चुपचाप सो जाओ सब.... श...श..श... सो रहा है देश मेरा कृपया हॉर्न तो बिलकुल ही न बजाएं।।

रूपया बोलता है

rashmi   9 views   1 year ago

धन की अधिकता और दुरूपयोग पर रूपये की ओर से इंसान को समझाने की कोशिश

रंगीन लिबास

abhidha   309 views   1 year ago

विक्रम हॉस्पिटल से अपने फ्लैट पर लौट आया।खाना खाने का मन नहीं था, चुपचाप रेडियो चलाया और बिस्तर पर लेट गया। रेडियो पर गाना बज रहा था- 'मैं कहीं कवी न बन जाऊँ तेरे प्यार में ऐ कविता' अबकी बार विक्रम ने अपने कान बंद कर लिए थे।।

बहनजी टाइप

swa   71 views   1 year ago

8 दिन हो गये । सृष्टि जिद पकड़कर बैठी है । नौकरी करेगी। आख़िर उसकी डिग्री किस काम की है ? सिर्फ घर संभालती रहेगी? आखिर वो गोल्ड मेडलिस्ट है। ऋषभ बताओ मैं क्यों नहीं कर पाऊंगी नौकरी? कितनी लड़कियां करती है। तुम्हें क्या लगता है? मैं नौकरी और घर मैनेज नहीं कर सकती?

ललक

kumarg   289 views   9 months ago

नाक सिकोड़ते हुए बोली "ठीक है कल से कापी पेंसिल लेकर आ जाना। " बड़े ने प्रतिवाद किया "उसमें बहुत खर्चा है ऐसे ही आप जो बोर्ड पर लिखेंगी वही पढ़ लेगा। ज्यादा नहीं पढ़ना है हिसाब बाड़ी लायक पढ़ जाए बस। "

रीति- रिवाज़

Manju Singh   2.64K views   5 months ago

रीति रिवाज़ तभी तक अच्छे लगते हैं जब तक समाज या परिवार को हानि ना पहुंचायें । ऐसे रीति रिवाज़ किस काम के जो जान लेने पर ही आ जाएँ।

नया सवेरा

ritumishra20   224 views   10 months ago

हर किसी के जीवन में हर रोज़ एक सवेरा होता है लेकिन एक सवेरा एेसा आया नीलू के जीवन में जिसने उसे उम्मीद की एक नई किरण ही नहीं दी बल्कि उसके बाद उसने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा

इंसानी भेदभाव व दुश्मनी… जिम्मेदार शायद हम खुद||

Mona Kapoor   26 views   7 months ago

समाज में आपसी सहयोग व एकता को बढ़ावा देने के लिए पहला सहयोग हमारा स्वयम का ही होना चाहिए ।

झल्ली पड़ोसन की बहन जी (महिला दिवस)

sunitapawar   1.30K views   4 months ago

सच्चा मन ईश्वर का घर होता है और अच्छी सीरत वाल इंसान ही सबसे खूबसूरत होता है

दहलीज का अंतर

kavita   313 views   9 months ago

एक बेटी के बहू बन जाने, का अंतर ..समाज के लोगों के बीच फैला स्त्री के लक्ष्मी स्वरूप का वास्तविक रूप प्रस्तुत करता लेख

बेटी की उड़ान !!

nehabhardwaj123   1.38K views   6 months ago

ये कहानी है शर्मा जो की जिन्होंने अपनी बडी बेटी की शादी उसकी पढ़ाई पूरी होने से पहले ही कर दी पर उन्होंने अपनी इस गलती से सबक लेते हव छोटी बेटी को खूब पढ़ाया लिखाया।

पढ़ी लिखी घरेलू बहू !!

nehabhardwaj123   1.52K views   7 months ago

ये कहानी है सुनीता जी की जिनकी सोच अपनी बहू और बेटी दोनो के लिए अलग अलग हैं ।

परवरिश

kumarg   1.57K views   5 months ago

उसने हामिद की ठुड्ढी पकड़ कर पुचकारा " खा ले बेटा। देख न कितना काम है सबको कल ही सिल के देना है । " उसने पैर पटका "परसों सिल के दोगी तो क्या होगा ? " "नहीं बेटा पंद्रह अगस्त तो कल है न। झंडा तो कल ही फहरेगा सबका। "

ग़ज़ल-"बेकार की बातें न कर..."

sunilakash   20 views   1 year ago

व्यवस्था में विष घोलकर, उद्धार की बातें न कर।

अस्तित्व : women struggle after marriage

kavita   286 views   9 months ago

एक स्त्री के विवाहोपरांत आत्म सम्मान से जुड़े संघर्ष की कहानी और उसमे जीवन साथी की भूमिका