8
Share




@dawriter

आखिरी_विकेट

0 985       
mrinal by  
mrinal

#आखिरी_विकेट

लंगोटिया यार को सरप्राइज देने सहाय जी बिना फोन किये ही चौबे जी के घर पहुँच गये। घन्टी बजायी तो अंदर से आयी आवाज़ से उन्हें अपनी गलती का एहसास हुआ,"इस भरी दोपहरी में कौन मरने आ गया?"

भाभी जी ने दरवाजा खोला और माफी माँगते हुये अंदर ले गयीं,"अज़ी, देखिये तो कौन आये हैं?"

अप्रत्याशित रूप से पुराने दोस्त को सामने देख चौबे जी गले लगकर रोने लगे।

"और बताओ भाई, कैसे आना हुआ?"

"कुछ नहीं। बस फोन पर बात करने से मन नहीं भरता था। बहुत दिन मिले हुये हो गया था तो सोचे मिल ही आयें। विनीत बेटा नहीं दिख रहा है।"

"किसी दोस्त के यहाँ गया होगा। साथ में अच्छी तैयारी हो जाती है न!"

भाभीजी ने आँखें तरेरीं।

"सिविल के मेन का रिजल्ट तो आ गया। क्या हुआ?"

"अरे होना क्या है? हमारे तो भाग्य ही फूटे हैं।पास तो नहीं ही हुआ, तीन दिन से कमरे में बन्द है। हमको तो डर लगता है कि कहीं ये भी बड़े बेटे की तरह...." भाभीजी के दर्द का सैलाब उमड़ पड़ा।

"अरे नहीं भाभी! शुभ-शुभ बोलिये। मैं मिल कर आता हूँ न उससे।" कहते हुये उसके कमरे की ओर बढ़ गये।

"विनीत बेटा, दरवाजा खोलो। मैं तुम्हारा पान वाला अंकल!"

"प्रणाम अंकल।" दरवाजा खोलते ही विनीत पैर छूने को झुक गया। "क्या हाल बना रखा है! बेटे,तुम तो काफी मजबूत थे।" ......

"जबाब तो दो। अच्छा!आजकल क्रिकेट में क्या चल रहा है?"

"अंकल, जब रन नहीं बन रहा हो तो आउट हो जाने में ही भलाई है।"

"क्या फालतू की बात कर रहे हो?"

"अंकल,सही कह रहा हूँ। मुझसे अब और नहीं हो पायेगा। .....मैं.... बिल्कुल टूट चुका हूँ।"

" अच्छा। एक चीज़ बताओ। अगर रन नहीं बन रहा हो पर विकेट आखिरी हो तो क्या करना चाहिए?"

"तो अंतिम ओवर तक खेलने का प्रयास करना चाहिये।"

"बिल्कुल सही। प्रयास जारी रखो। कोई दूसरा विकल्प ढूँढ लो। पर अंतिम समय तक डटे रहना। आउट होने की कभी सोचना भी मत। क्योंकि तुम चौबे के आखिरी विकेट हो... आखिरी विकेट!"

© मृणाल आशुतोष

Image Source:goalcast



Vote Add to library

COMMENT