INSPIRATIONAL

FILTERS


LANGUAGE

रीति- रिवाज़

Manju Singh   2.69K views   1 year ago

रीति रिवाज़ तभी तक अच्छे लगते हैं जब तक समाज या परिवार को हानि ना पहुंचायें । ऐसे रीति रिवाज़ किस काम के जो जान लेने पर ही आ जाएँ।

बहू की विदाई

deepikasharmanarayan1   2.16K views   6 months ago

प्रचलित परिपाटी से अलग हटकर एक सास का अनुपम निर्णय

परवरिश

kumarg   1.60K views   1 year ago

उसने हामिद की ठुड्ढी पकड़ कर पुचकारा " खा ले बेटा। देख न कितना काम है सबको कल ही सिल के देना है । " उसने पैर पटका "परसों सिल के दोगी तो क्या होगा ? " "नहीं बेटा पंद्रह अगस्त तो कल है न। झंडा तो कल ही फहरेगा सबका। "

मीठे रिश्ते या बोझिल !!

nehabhardwaj123   1.57K views   1 year ago

ये कहानी है, राकेश और रागिनी जो लेनदेन को रस्मों के नाम पर बोझ से खुद को मुक्त करा देते है

पढ़ी लिखी घरेलू बहू !!

nehabhardwaj123   1.53K views   1 year ago

ये कहानी है सुनीता जी की जिनकी सोच अपनी बहू और बेटी दोनो के लिए अलग अलग हैं ।

मासिकधर्म या कुरीति

nis1985   1.53K views   1 year ago

शर्म की वजह से ही आज ग्रमीण या सामान्य महिलायें भी न तो इस विषय पर खुलकर बोल पाती और जागरूकता की कमी की वजह से ही उन तक मासिकधर्म से सम्बंधित कई महत्त्वपूर्ण जानकारी नहीं पहुँच पाती और न ही वो【 पेड 】इस्तेमाल की कोई जानकारी रखती हैं

हसरत

poojaagnihotry   1.52K views   1 year ago

प्यार से देखते हुये रवि ने उसे गले से लगाया और उसके माथे पर......

संस्कारों के बीज... जैसे बोयेंगे , वैसे फल पायेंगे !!

nehabhardwaj123   1.48K views   11 months ago

ये कहानी है रमा की जिसका बेटे से मनमुटाव हो जाने के कारण वो बेहद दुखी है वही उसकी सहायता करती है उसकी अपनी सहेली बाला

कौन अपना कौन पराया

Manisha Dubey   1.42K views   7 months ago

रिश्तों की डोर एक बार टूट जाये तो चाहें कितना भी बाँध लो गाँठ तो पड़ ही जाती है।

बेटी की उड़ान !!

nehabhardwaj123   1.40K views   1 year ago

ये कहानी है शर्मा जो की जिन्होंने अपनी बडी बेटी की शादी उसकी पढ़ाई पूरी होने से पहले ही कर दी पर उन्होंने अपनी इस गलती से सबक लेते हव छोटी बेटी को खूब पढ़ाया लिखाया।

IAS दामाद चाहिए # प्रेम कहानी

Adhunika Chaudhary   1.37K views   11 months ago

 राहुल के पापा बोले तो फिर शादी तो लेट करेंगे बेटी की? पाण्डे अंकल बोले, "नहीं जी। लेट क्या? एग्जाम क्लियर हो जाए। ट्रेनिंग हो जाए बस कर देंगें। IAS दामाद चाहिए हमको तो जी बस"। 

झल्ली पड़ोसन की बहन जी (महिला दिवस)

sunitapawar   1.33K views   1 year ago

सच्चा मन ईश्वर का घर होता है और अच्छी सीरत वाल इंसान ही सबसे खूबसूरत होता है

मातृत्व

deepikasharmanarayan1   1.30K views   6 months ago

जीवन की उलझन में फंसी स्त्री का अनूठा निर्णय।

परवरिश

SHIKHA SRIVASTAVA   1.18K views   1 year ago

बदलते वक्त के अनुसार बच्चों में सही संस्कार देने की कोशिश दिखाती एक कथा

आवाक

Manju Singh   1.12K views   1 year ago

दहेज प्रथा हमारे समाज पर एक बदनुमा दाग है। इसका उन्मूलन करने के लिये युवा पीढी को ही आगे आना होगा। पढ़िए लघुकथा 'आवक'