FICTION

FILTERS


LANGUAGE

मैं बिकूँगा नहीं

rajesh   690 views   1 year ago

उस अजनबी का स्वर यकायक हिसंक हो उठा----"क्या अपनी पत्नी को भी दाँव पर.......... ।"

कशमकश जिंदगी की

rajmati777   1.22K views   1 year ago

एक महिला शादी कर ससुराल आती हैं,नये माहौल में सामंजस्य स्थापित करती है। अपने रिश्ते बड़े ईमानदारी से निभाती है। पर फिर भी वो अकेली ही महसूस करती है।

पश्चाताप की ज्वाला- (अन्तिम भाग )

sunita   621 views   11 months ago

एक दिन जीया की तबियत कुछ संभली तो रवीश ने कहा वह थोडी देर के लिए ऑफिस हो आते है , जीया की आँख भर आयी , “ तुम्हे मुझसे ज्यादी नौकरी की पडी है।” रवीश ने जीया की हालत देख कहा तुम नही चाहती तो नही जाऊंगा नौकरी करने , यही रहुंगा तुम्हारे पास थका हारा रवीश .......जीया के बेड पर ही सर रख सो गया।

भूतिया महल

mmb   542 views   1 year ago

अपने महल में राजा औऱ रानी का भूत

हसीन बला

sunita   1.01K views   1 year ago

"शुक्रिया..." कहते हुए झटपट उतर चल पडी पीछे मुड कर भी न देखा बारिश लगभग रूक सी गयी कौन थी वो हसीनं बला मै सिर्फ सोचता ही रहा उसके ख्यालों में डूबा कब घर के कारिडोर तक जा पहुचाँ पता ही न चला..

पश्चाताप की ज्वाला -5

sunita   1.33K views   11 months ago

जीया रीया के पास ही रही उसे अपनी छोटी बहन के लिए दुख हो रहा था उसे यह उम्मीद न थी कि अब दीपक इतना गिर जायेगा कि पैसे न मिलने पर अपनी पत्नी को ही मारेगा , जीया के दिमाग पर तनाव हावी हे रहा था उधर नन्नू निक्कू के माँ -बाप का रोल निभा थपकी देकर लोरियां सुना रहा था।

जोगन-2

sunita   381 views   1 year ago

मैने जीवन में प्रभु को ही सबकुछ माना पर प्रभु ने मुझे माया में फंसा दिया मेरी जीवन नैय्या मझधार में है माता !! मै क्या करूं इतनी बेकल तो मै कभी न हुई कितनी बार लोगों के व्यंगों का सामना किया समाज से परे जा कर भी।

जोगन

sunita   1.07K views   1 year ago

एक दिन निम्मी ने देखा जोगन घर के बाहर खडी गीत गा रही है निम्मी को उसे देख क्रोध आया पहले की तरह प्यार नही। आज अच्छा मौका है निम्मी जल्दी से बाहर जा पंहुची , "ऐ जोगन यहां क्या शोर मचा रही हो जाओ कही ओर जाकर मांगों "

हवेली

mmb   1.07K views   1 year ago

राजस्थान के दूर दराज इलाके में एक रहस्यमयी हवेली की कथा जिसमें रोमांच है।

पश्चाताप की ज्वाला -6

sunita   617 views   11 months ago

जीया को होश आ गया नर्स ने एक इन्जेक्शन लगाया ...डॉ0 ने कहा , “ अब यह थोडा ठीक है लेकिन यहाँ बिलकुल भी शोर न हो न ही इनसे ज्यादा बात की जाये यदि ऐसा हुआ तो इनकी हालत बिगड जायेगी ” , “ मै ख्याल रखुगा डॉ0 ” ....इसी कहानी में

न्याय-अन्याय

Ankita Bhargava   691 views   1 year ago

अपराधी को उसके कर्मों की सज़ा तो मिलनी ही चाहिए। न्याय भी होना चाहिए यह सही है किन्तु जब किसी एक के साथ न्याय होता है कहीं ना कहीं किसी ना किसी के साथ अन्याय भी होता है

मेच फिक्सिंग (लघुकथा_

chandresh   1 views   11 months ago

"सबूतों और गवाहों के बयानों से यह सिद्ध हो चुका है कि वादी द्वारा की गयी 'मेच फिक्सिंग' की शिकायत सत्य है, फिर भी यदि प्रतिवादी अपने पक्ष में कुछ कहना चाहता है तो...." "मैं कुछ दिखाना चाहता हूँ।" प्रतिवादी ने कहा

काल्पनिक निष्पक्षता

Mohit Trendster   297 views   1 year ago

“...निष्पक्ष पत्रकारिता, एथिक्स वाला मीडिया नाम की कोई चीज़ नहीं होती। बस के खाई में गिरने से 5 लोगों की मौत जैसी प्लेन ख़बरों के अलावा बयान, घटना, विवरण, निष्कर्ष सब इस बात पर निर्भर करते हैं कि किस मीडिया में पैसे का स्रोत क्या है और ऊपर के मैनेजमेंट से कौन लोग जुड़े हैं।”