6
Share




@dawriter

शादी के बाद का बर्थडे

1 1.08K       

अभी सुधा ने सुबह की चाय बनाई और पीने को बैठी ही थी कि, बेटी श्रेया का मैसेज मिला..!

सॉरी मम्मी...कल जल्दी जल्दी में फ़ोन रख दिया। बहुत याद आ रही थी तुम्हारी इसलिए मैसेज करने का मन हुआ..! जानती हो मां कल फ़ोन पर आपने जन्मदिन की बधाई दी पर मैं कुछ ज्यादा बात नहीं कर सकी ..क्योंकि सब लोग खड़े थे..! पर इस बार मेरा बर्थडे बहुत अच्छा मनाया गया ..! वो कल फ़ोन पर तुम्हे जो छन की आवाज़ सुनाई थी..वो गलती से कांच की कटोरियाँ गिरने की आवाज़ थी।

कल रात को 12 बजे ही विशाल ने केक कटवाया और चुपचाप हम दोनों ने सेलिब्रेट किया...फिर सुबह उठी तो विशाल ने सरप्राइज़ दिया..! ढेर सारे फूलों का गुलदस्ता और एक प्यारा कार्ड..! फिर हमने हल्का नाश्ता किया और निकल गए..! मूवी देखी..शॉपिंग की..घूमे फिरे..! और फिर डिनर करके तब घर आये..! सासू माँ ने एक सच्चे मोतियों की माला गिफ्ट की है और ससुर जी ने लिफाफे में शगुन दिया है..! रात को इतना थक गई थी कि, तुम्हे फ़ोन करने के पहले ही सो गयी..! और हां मम्मी देखो मेरी ये फोटो मैंने वो मोतियों का सेट पहना हुआ है।

सुधा ने ध्यान से बेटी के चेहरे को देखा.. जहां उसकी सूजी हुई आंखें, कल की वो छन से कांच के गिरने की आवाज़ का सच बयां कर रही थी वहीं यत्न से लाई गई मुस्कान.. उसके शादी के बाद के बर्थडे की हकीकत ,दिखा रही थी...! मोतियों की माला के नीचे के नीले निशान भी शायद देख ही लिए सुधा ने ..आंखें आँसुओ से भर उठी.. फिर खुद को सम्हाल लिया..।

तभी कैलाश ने सुधा से पूछा श्रेया का मैसेज है क्या ? सुधा ने पति की ओर देख कर मुस्कुरा कर कहा...हां ! जानते हो ! हमारी बेटी बड़ी हो गयी है..!

*******************************************

आपको ये लघुकथा कैसी लगी मुझे अवश्य बताइएगा।

-कविता जयन्त श्रीवास्तव

#stopdomesticviolence

Image Source: alarabiya



Vote Add to library

COMMENT