DOMESTIC VIOLENCE

FILTERS


LANGUAGE

शादी के बाद का बर्थडे

kavita   1.30K views   7 months ago

संतान द्वारा माता पिता को खुश रखने की चाह ....अर्थात बच्चे बड़े हो गए ...! प्रेम, विवशता, और उनके अनकहे दर्द को दर्शाती एक लघु कथा

तन के घाव से भारी मन के घाव जिनकी पीड़ा न समझे कोई

Maneesha Gautam   1.07K views   6 months ago

कभी शारिरिक घाव मानसिक घाव को और गहरा कर देते है। तन के घाव को तो समय भर देता है,पर मन के घाव और गहरे होने लगते है। घाव ओर ज्यादा दुख देने लगते है जब समाने वाले को अपनी गलती का अहसास ही नहीं होता।

ख़ुद्दारी

cloudy   998 views   5 months ago

एक छोटी सी बच्ची की ख़ुद्दारी ओर आत्मसम्मान की कहानी...

रोटी 20 सेंटीमीटर गोल होनी चाहिए।

Maneesha Gautam   943 views   3 months ago

अपनी बेटी को माफ कर दिजिए पापा,मै तलाक चाहती हूँ

दर्द

Pallavi Vinod   942 views   2 months ago

हर लड़की के अपनी शादी को लेकर कुछ सपने होते हैं,लेकिन जब वो सपने टूटते हैं तो उनकी चुभन जिंदगी का सबसे बड़ा दर्द बन जाती हैं।

घरेलू हिंसा: एक संकीर्ण सोच

utkrishtshukla   739 views   11 months ago

........हमें महिलाओं के प्रति अपनी संकीर्ण सोच बदलनी होगी और बाहर निकलना होगा ऐसी रूढ़िवादी परम्पराओं से जो उन्हें सम्मान व बराबरी का दर्जा नहीं दे सकती हैं।..........

और मैं मुक्त हो गयी

kavita   643 views   8 months ago

शोषण के विरुद्ध एक स्त्री के आत्मबल संजो कर विद्रोह करने की मार्मिक कथा

आखिर क्यों ...??

nehabhardwaj123   578 views   6 months ago

ये कहानी है राधा की जो अपने पति की शराब की आदतों से बहुत परेशान है

नन्हा कदम

rajmati777   557 views   8 months ago

एक ऐसी महिला की कहानी जिसे अपनी सुहागरात में क्या क्या करना पड़ा।सास ने बहू का वर्जिनिटी टेस्ट करवा उसे सदमे में डाल दिया।

घर का मामला

varsha   526 views   8 months ago

आज के समय में जब हम अपने आसपास कुछ भी गलत होता देखकर भी आंखें मोड़ लेते हैं तो हम कैसे अपने लिए संवेदनशीलता की उम्मीद रख सकते हैं।

साढ़े तीन ऑंखें

dhirajjha123   418 views   9 months ago

एक कहानी मानवीय प्रेम की, एक कहानी एक आम औरत की, एक कहानी एक माँ की

Finding solace in the most tragic way.

writerinmaking0   365 views   1 year ago

An attempt to modify the society through my thoughts that aim to question the dynamics of domestic violence. My main concern is to talk about how domestic violence works in a place we least expect it to.

लघुकथा- रिश्तों की नीलामी

rashmi   346 views   10 months ago

पैसों से खरीदकर बनाए गए रिश्तें और उन पर हुकुमियत की दास्तां

इज्जत के साथ

Maneesha Gautam   314 views   3 months ago

जो बोलोगे वो बना देंगे चीनी नही है घर में,पर खुशखबरी का है? हमारी लक्ष्मी के लिए रिश्ता है आया है.

अनकहा दर्द ।

chandrasingh   313 views   1 year ago

आखिर ये नयी सदी मे जी रहे लोगो की मानसिकता कब तक ये दहेज रूपी गुलामी की जंजीरों को झेलेगी इसे तोड़ना होगा और शुरुवात करनी होगी एक दहेज मानसिकता मुक्त समाज की । ताकि किसी तनिशा का फिर से अन्त न हो । अब हमे लड़ना हो, जागना होना नही तो अगली तनिशा हमारे घर से भी हो सकती है ।