MAN MOHAN BHATIA

MAN MOHAN BHATIA
Verified Profile

This is a verified account of top writer.

1

Most recent posts

प्रेमालाप

प्रेम शादी के बाद गाड़ा होता जाता है

अंत

उसको अपने अंत का अहसास होने लगा था

भूतिया महल

अपने महल में राजा औऱ रानी का भूत

चले जाओ

सात साल से पति की राह देखती पत्नी

पगली

कैंसर से जूझती पत्नी को पति के प्यार का सहारा

ईमानदार

एक गरीब उसूलों पर चलने वाले ईमानदार विद्यार्थी की कहानी

चौपाल

एक छोटी कॉलिनी के चौपाल पर घटित रोजमर्या की लघुकथा

हवेली

राजस्थान के दूर दराज इलाके में एक रहस्यमयी हवेली की कथा जिसमें रोमांच है।

प्रेम वाला खाना

पत्नी और मां के हाथों से बनाये खाने में प्रेम और वात्सल्य भरपूर होता है।

षड़यंत्र

षड़यंत्र से बांध लिया विवाह बंधन में

ताई

ताई का रुतबा आखिर समाप्त हो गया। उसका स्थान उसकी बहू ने ली।

यादें

उम्र के अंतिम पड़ाव में जीवन की यादें उमड़ घुमड़ कर आती हैं।

Some info about MAN MOHAN BHATIA

  • Male
  • 29/03/1958

फुरसत के पलों में शब्दों को जोड़ता हूं। जीवन की सरलता, कठिनता, विषमता, विकटता को कहानी के माध्यम से कहने का प्रयास जारी है।

EDIT PROFILE
E-mail
FullName
PHONE
BIRTHDAY
GENDER
INTERESTED IN
ABOUT ME