Dhiraj Jha

Dhiraj Jha
Verified Profile

This is a verified account of top writer.

10

Most recent posts

​बस ऐसे ही एक किस्सा सुनो

अगर कहीं ये हो जाए तो आँख मेरी गर सो जाए तो कहीं मैं एक दिन जाग ना पाऊं

बस ऐसे ही

किसी ने उस से पूछा “क्या देह बेचना अच्छा लगता है ?

इंतज़ार करूंगा

ओह हाँ याद आया तुम बेटी हो ना जिसके अधिकार के लिए सब लड़ रहे हैं घबराओ मत तुम्हें तुम्हारा हर हक़ मिलेगा

​नमन है तुम्हें

यहाँ एक पति है एक पत्नी है और साथ में है पति का अपनी पत्नी के लिए आदर, जिसे वो अपने शब्दों में कुछ इस तरह बांधता है ।

​क्या तुम जानते हो

क्या तुम जानते हो गुलामी किसको कहते हैं ?

घर वाकई स्वर्ग है

घर में घुसते ही पापा वाला खाली पलंग जब तक रुलाए तब तक माँ की मुझे देख चमकती आँखें मुस्कुराने पर मजबूर कर देती हैं और लगता है माँ में ही कहीं पापा भी बाहें फैलाए सीने से लगाने को बेचैन हैं

​जोगी जी के पहरे में पलता प्रेम

पहिले हमको देखने के लिए दू दू घंटा स्कूल के बाहर खड़े रहते थे । और अब अईसे भाग रहे हो जईसे हमको छूत का बिमारी है । आग लगे इस रोमिओ स्काड को जो तुमको एतना डेरा दिया है कि हमारे पास आने से डरने लगे हो ।

बहुत सी अंधेरी रातों के बाद ये सवेरा आया है

जिस योगी के ऐंटी रोमियो दल की आप निंदा कर रहे हैं वो अगर उस वक्त उस दिल्ली में गठित होता तो शायद देश को सदी की सबसे बड़ी शर्मिंदगियों में से ये शर्मिंदगी ना झेलनी पड़ती

भीड़ के अलग अलग चेहरे

“हाँ हाँ महराज जाइए ना हम कहाँ रोक रहे हैं । मगर एक बात कह दें आप जईसा लोक सब के चलते देस पिछड़ा है । लालच है ना जो वो देस की जनता के मन से जब तक नहीं जाएगा देस का भला संभब नहीं है महराज ।”

अधजला

जल जाना अच्छा है अधजले होने से मगर तड़प वालों को इतना जल्दी जल जाना नसीब कहाँ

याद रहे कोई भी धर्म या नफ़रत इंसान की ज़िंदगी से बड़ा नहीं

सुना है अलवर में गौतस्कर बता कर एक पशु व्यापारी की हत्या कर दी गई । कुछ लोग खुश हैं कि गौ वध करने वालों की संख्या से एक कम हुआ, कुछ लोगों के लिए ये शर्मनाक हादसा है ।

​लाश हो जाना ही अच्छा है

मरघट में धू धू कर जलती लाशें जलते हुए भी मुस्कुरा रही थीं जाते जाते ज़िंदा लोगों को उनके मरे होने का अहसास करा रही थीं

Some info about Dhiraj Jha

  • Male
  • 09/10/1988

EDIT PROFILE
E-mail
FullName
PHONE
BIRTHDAY
GENDER
INTERESTED IN
ABOUT ME